< Browse > Home /

| Mobile | RSS

  

जाड़ों की नर्म धूप और …

दुनिया के इस कोने से उस कोने तक मौसम की ऊठापटक जारी है और ऐसे ही इस साल के जाड़ों में हर सप्ताह पड़ने वाली बर्फवारी के बीच एक सुबह की खिली खिली धूप ने याद दिलायी, इस गीत की – दिल ढूँढता, है फिर वो ही, फुरसत के रात दिन। और इस गीत की [...]

[ More ] January 21st, 2011 | 14 Comments | Posted in Uttarakhand's Life |