< Browse > Home /

| Mobile | RSS

  

लोकगीतः सुरम्याला आंख तेरा घुंघराला बाल

इस बार आपको सुना रहे हैं गढ‌वाली बोली में गाया ये गीत। खुबसूरत बोलों से सुज्जित ये गीत लडकी की तारीफ में गाया हुआ गीत है, ये गीत आडियो एलबम पैलि पैलि प्यार से लिया गया है। शुरू की लाईनें कुछ इस तरह से है – सुरम्याला आंख तेरा घुंघराला बाल गोरी मुखडी जैसी हिरनी [...]

लोकगीतः घुघुती घुरोण लगी

इस बार आपको सुना रहे हैं गढ‌वाली बोली में नरेन्द्र सिंह नेगी द्वारा गाया ये प्रसिद्ध गीत। जिसमें कि गायक घुघुती नाम की चिडिया की आवाज को सुन के, अपने मैत यानि कि मायका (घर) की याद को ताजा कर रहा है। शुरूआत के बोलों के भाव कुछ इस तरह से है कि मेरे घर [...]

लोकगीतः ओ परूआ बोजू

आज हम सुना रहे हैं ये गीत लेकिन दो अलग अलग तरीके से, जी हाँ पहले सुनिये बगैर म्यूजिक के ओरिजनल शेरदा ‘अनपढ’ की आवाज में इस गीत की एक झलक। फिर सुनिये इसी गाने का कमर्शियल या म्यूजिकल वर्जन। शेरदा कुमाऊँ में काफी प्रसिद्ध हैं, उनकी कवितायें और गीत काफी मधुर और सफल रहे [...]

लोकगीतः नौछमी नारेणा

इस बार गीत के साथ साथ विडियो के भी मजे लीजिये, ये गीत शायद उत्तरांचल का अभी तक का सबसे ज्यादा विवादास्पद गीत होगा। गीत गाया है नरेन्द्र सिंह नेगी ने, इसमें उत्तरांचल में बनी सरकारों के कामों में व्यंगात्मक टिप्पणियां की है। शुरूआत होती है बीजेपी की सरकार की बात से कि कैसे उन्होने [...]

लोकगीतः बबली तेरो मोबाईल

इस बार आपको सुना रहे हैं गढ‌वाली बोली में गाया ये गीत। लोकल और आधुनिक संगीत से सुज्जित ये गीत एक छेडछाड का गीत है जिसमें लडका एक बबली नामकी लडकी को फोन करता है। लडकी के फोन पे हँसने पर लडका ये गीत गाने लगता है, जिसके शुरूआती बोल का भावार्थ कुछ इस तरह [...]

लोकगीत: बेडु पाको बारो मासा

‘बेडु पाको बारो मासा’ ये आपने अवश्य ही सुना होगा आमिर खान द्धारा अभिनीत, प्रसून जोशी द्धारा रचित कोका कोला के विज्ञापन में, आज कुमाँऊ का ये लोकगीत आपके पेशे खिदमत है। अगर आपने राजश्री की फिल्म विवाह देखी होगी तो इस गीत के पहली लाईन की ट्यून पर जरूर गौर किया होगा। ये गीत [...]

पहाड‌ी शब्दकोशः एक नई शुरूआत

बहुत दिनों से चिट्ठा जगत से गायब रहने की मेहनत रंग लायी और अब अपने उत्तरांचल की बोली सीखने के लिये भी शब्दकोश तैयार हो रहा है। जी हाँ, आज ही एक नयी वेबसाईट का श्री गणेश इसके बीटा संस्करण के साथ किया है। इसका नाम है पहाडी शब्दकोश, ये वास्तव में एक कोशिश है [...]

नाम गुम जायेगा

राज्य बनने से पहले शायद जनता उत्तराखंड के नाम पर ज्यादा सहमत थी, लेकिन नाम मिला उत्तरांचल। अब जब इस नाम की आदत ही नही बल्कि सब जगह इस नाम की इबारत लिखी जा चुकी है सरकार इसका नाम बदल रही है। जी हाँ उत्तरांचल का पुनः नामकरण उत्तराखंड करने पर सहमति हो गई है। [...]

[ More ] August 24th, 2006 | 15 Comments | Posted in सामान्‍य |

लोकगीत: घुघुती ना बासा

घुघुती एक चिड‌िया का नाम है जो आम के पेड‌़ में बैठ के गीत गाती है, ये गीत एक स्त्री द्धारा अपने पति की विरह की भावनाओं को व्यक्त करता है, जिसका पति लदाख में तैनात है। गीत के बोल पढ़ कर समझिये और फिर गाने का मजा लीजिये। घुघुती ना बासा, आमे कि डाई [...]

एक नजर

9 नवम्‍बर 2000 को अस्‍तित्‍व में आया राजधानी – देहरादून कुल क्षेत्र – 52,185 वर्ग किमी. जंगल – 65% जनसंख्‍या – 8,479,562 घनत्‍व/आबादी – 159 लोग/वर्ग किमी. लिंग अनुपात – 964 महिलायें/1000 पुरूष खेती योग्‍य जमीन – 13% साक्षरता – 72.28% पुरूष साक्षरता – 84% महिला साक्षरता – 60.3% कुल गाँव – 15,651 गाँवों में [...]

[ More ] August 20th, 2006 | Comments Off | Posted in जरा हट के |

उत्तरांचल

उत्तरांचल यानि देवभूमि, मीलों फैला हिमालय और इस धरती का एक ओर स्‍वर्ग। हर किसी को हर कहीं से लुभाने के लिये लालायित एक रमणीय प्रदेश। स्‍वच्‍छ वायु, निर्मल जल, कँपकँपाती बर्फ, दूर तक फैली हरियाली, विशाल पहाड़, छोटे छोटे गाँव, सीधे-सादे लोग, कड़ी जीवन शैली यही है उत्तरांचल। एक तरफ उत्तरांचल जहाँ प्रकृति प्रेमियों [...]

[ More ] February 18th, 2006 | 7 Comments | Posted in सामान्‍य |
  • Page 2 of 2
  • <
  • 1
  • 2