< Browse > Home / Archive by category 'व्यक्तिव'

| Mobile | RSS

  

Interview: गढ़वाली सिनेमा के जनक पराशर गौढ़ के साथ बातचीत – 2

गड़वाली सिनेमा के २५ साल पूरे होने पर हमने जा पकड़ा, पहाड़ी महिला के संघर्ष की कहानी कहती फिल्म “गौरा” और पहली गढ़वाली फिल्म “जग्वाल” के निर्माता पराशर गौढ़ को, और उनके साथ करी एक लंबी बातचीत। आज से उसी बातचीत का सिलसिला यहाँ शुरू कर रहे हैं। पिछली पोस्ट के साथ हमने पराशर गौढ़ [...]

[ More ] July 1st, 2008 | 4 Comments | Posted in व्यक्तिव, सिनेमा |

Interview: गढ़वाली सिनेमा के जनक पराशर गौढ़ के साथ बातचीत

गड़वाली सिनेमा के २५ साल पूरे होने पर हमने जा पकड़ा, पहाड़ी महिला के संघर्ष की कहानी कहती फिल्म “गौरा” और पहली गढ़वाली फिल्म “जग्वाल” के निर्माता पराशर गौढ़ को, और उनके साथ करी एक लंबी बातचीत। आज से उसी बातचीत का सिलसिला यहाँ शुरू कर रहे हैं। “मुश्किल नही है कुछ भी अगर ठान [...]

[ More ] June 26th, 2008 | 24 Comments | Posted in व्यक्तिव, सिनेमा |

शैलेश मटियानी :लिखना एक आहट पैदा करना है

शैलेश मटियानी को हमारे बीच से गये हुए छह साल पूरे हो चुके हैं। लगता है जैसे कल की बात हो। तमाम संघर्षो तथा दु:श्चिंताओं के बावजूद आखिरी समय तक जैसा कि वे लेखन के बारे में कहा करते थे,” कागज पर खेती” करते रहे। उनकी कहानियों पर टिप्पणी करते हुए राजेंद्र यादव ने स्वीकार [...]

[ More ] January 23rd, 2008 | 8 Comments | Posted in व्यक्तिव, साहित्य |

चक दे मैन मीर रंजन नेगी के साथ रजनीश की बातचीत

[अब तक तो शायद काफी लोग जान गये होंगे कि 'चक दे इंडिया' में शाहरूख वाला रोल पूर्व हाकी कोच मीर रंजन नेगी को लेकर लिखा गया था। उत्तराखंड समुदाय के सक्रीय मेम्बर रजनीश ने उनके साथ बातचीत करी। ये बातचीत यहाँ आप लोगों के लिये पेश है। इससे पहले ये क्रियेटिव उत्तराखंड की साईट [...]

[ More ] October 24th, 2007 | 8 Comments | Posted in उप्लब्धि, व्यक्तिव |

संस्मरणः वह एक मुलाकात

मैने शायद कभी सोचा नही था कि किसी एक दिन म्यार पहाड़ के तीन तीन विशिष्ट व्यक्तियों से एक साथ मिलना होगा। ये तीन व्यक्ति हैं, साल 2007 में पद्म श्री से सम्मानित डा शेखर पाठक; प्रसिद्ध गायक, कवि, संगीतकार नरेन्द्र सिंह नेगी और प्रसिद्ध लोक कलाकार, कवि, गायक, सोशियल एक्टिविस्ट गिरीश तिवारी (गिरदा)। और [...]

पद्मश्री डा. शेखर पाठक, नरेन्द्र सिंह नेगी और गिरदा से विशेष बातचीत

उत्तरांचल एसोशियन आफ नार्थ अमेरिका की स्थापना के दस वर्ष होने पर विशेष रूप से आयोजित इस सालाना अधिवेशन में, यहाँ अमेरिका में भाग लेने आये पद्मश्री से सम्मानित डा शेखर पाठक, प्रसिद्ध लोक गायक नरेन्द्र सिंह नेगी और गिरीश तिवारी (गिरदा) से न्यू जर्सी के लोकल और हिन्दी रेडियो स्टेशन पर जानेमाने रेडियो जॉकी [...]

उत्तरांचल के ये चार पद्म श्री-२००७

वैसे तो हर साल अलग अलग लोगों को उनके विशिष्ट कार्यों के कारण ये अवार्ड दिया जाता है, इस साल भी दिया गया लेकिन इस बार इसमें उत्तरांचल के भी चार नाम शामिल थे। ये हैं – स्वर्गीय प्रोफेसर देविन्द्र राहिनवाल को उनके समाज कार्यों के लिये (यह इनको मरणोपरांत दिया गया), श्री खालिद जहीर [...]

[ More ] January 26th, 2007 | 6 Comments | Posted in व्यक्तिव |

शिवानी गौरा पंत

हिन्दी साहित्य में शिवानी एक जाना पहचाना नाम है। इन्होनें काफी सारे उपन्यास, कहानियाँ, आलेख और निबन्ध लिखकर हिन्दी साहित्य को अपना योगदान दिया है। इनके लेखन में भावों का सुन्दर चित्रण, भाषा की सादगी तो होती ही थी साथ ही साथ पहाड‌‌‌, वहाँ रहने वाले भोले भाले लोग और वहाँ की संस्कृति का जीता [...]