< Browse > Home / Archive by category 'साहित्य'

| Mobile | RSS

  

शैलेश मटियानी :लिखना एक आहट पैदा करना है

शैलेश मटियानी को हमारे बीच से गये हुए छह साल पूरे हो चुके हैं। लगता है जैसे कल की बात हो। तमाम संघर्षो तथा दु:श्चिंताओं के बावजूद आखिरी समय तक जैसा कि वे लेखन के बारे में कहा करते थे,” कागज पर खेती” करते रहे। उनकी कहानियों पर टिप्पणी करते हुए राजेंद्र यादव ने स्वीकार [...]

[ More ] January 23rd, 2008 | 8 Comments | Posted in व्यक्तिव, साहित्य |

पहाड‌ी शब्दकोशः एक नई शुरूआत

बहुत दिनों से चिट्ठा जगत से गायब रहने की मेहनत रंग लायी और अब अपने उत्तरांचल की बोली सीखने के लिये भी शब्दकोश तैयार हो रहा है। जी हाँ, आज ही एक नयी वेबसाईट का श्री गणेश इसके बीटा संस्करण के साथ किया है। इसका नाम है पहाडी शब्दकोश, ये वास्तव में एक कोशिश है [...]

शिवानी गौरा पंत

हिन्दी साहित्य में शिवानी एक जाना पहचाना नाम है। इन्होनें काफी सारे उपन्यास, कहानियाँ, आलेख और निबन्ध लिखकर हिन्दी साहित्य को अपना योगदान दिया है। इनके लेखन में भावों का सुन्दर चित्रण, भाषा की सादगी तो होती ही थी साथ ही साथ पहाड‌‌‌, वहाँ रहने वाले भोले भाले लोग और वहाँ की संस्कृति का जीता [...]