< Browse > Home / Uttarakhand's Life / Blog article: जाड़ों की नर्म धूप और …

| Mobile | RSS

  

जाड़ों की नर्म धूप और …

January 21st, 2011 | 14 Comments | Posted in Uttarakhand's Life

दुनिया के इस कोने से उस कोने तक मौसम की ऊठापटक जारी है और ऐसे ही इस साल के जाड़ों में हर सप्ताह पड़ने वाली बर्फवारी के बीच एक सुबह की खिली खिली धूप ने याद दिलायी, इस गीत की – दिल ढूँढता, है फिर वो ही, फुरसत के रात दिन। और इस गीत की याद आते ही इसको सुनने का मन कर आया, सुनते सुनते याद आने लगी उस जगह की जहाँ के लिये ये गीत लिखा गया है, उस जगह की जहाँ के जाड़ों को इस गीत के लिये चुने गये एक एक शब्द बयाँ करते हैं। उन ऊँचे ऊँचे हरे-भरे पहाड़ों की, शोर मचाती बलखाती नदियों की, सीढ़ीनुमा खेतों की, सर्पीली सड़कों की, सने नींबू की, भुनी मुँगफलियों की, कांगडी की, सग्गड़ की, एक शब्द में कहूँ तो उत्तराखंड की

जहाँ अमेरिका के इस उत्तर-पूर्वी कोने में जाड़ों की धूप हड्डियाँ कंपकंपा देती है वहीं यहाँ से बहुत बहुत कोसों दूर अपने पहाड़ों में सर्दियों की जाड़ों की नर्म नर्म धूप की सोचकर आज भी वही सुखद ऐहसास होता है जो वहाँ रहकर होता था।

जाड़ों की नर्म धूप और आँगन में लेटकर… कुछ लोगों के लिये शायद ये छत में लेटकर हो जाता होगा लेकिन धूप में लटकर सोने का लुत्फ हर कोई उठा ही लेता था। जाड़ों की उस नर्म धूप को अपनी अपनी छतों पर या पड़ोसियों की छत पर इकट्ठा होकर सेकते लोग, उस सुनहरी और नर्म धूप में नींबू सानते लोग तब तो अक्सर दिखायी देते थे, कह नही सकता कि ऐसा आज भी होता है या नही। बड़ा नींबू, ताजी ताजी खेत से तोड़ी मूली, खट्टे-मीठे नारंगी, थोड़ा दही, थोड़ा भांगा (भंगीरा) इन सबको मिलाकर खाने का जो मजा था, आह आज भी लिखते लिखते मुँह से पानी आने लगा है, लेकिन ये सब यहाँ कहाँ।

रात को हमारे (बच्चों के) हाथों में जलती छोटी छोटी कांगडी (यही कहते हैं ना), उसको लेकर घूमना, उसके कुछ और ही मजे थे। रात में घर के अंदर सग्गड़ (ऐसा ही कुछ नाम था, चौकोर अंगीठी जैसा होता है) की राख में रखे मीठे आलू का स्वाद, सड़क के किनारे ठेली वाले से गर्म गर्म मुँगफली का मजा वो सब जो पहाड़ों में था यहाँ नही।

उन दिनों सिर्फ जाड़ों की नर्म धूप ही नही होती थी, होते थे फुरसत के रात दिन भी। अब ना वो फुरसत के दिन हैं ना रातें और ना ही नर्म धूप। आज ना जाने कितने सालों बाद अचानक वही सब याद आ गया, बस इस जाड़ों में अक्सर पड़ने वाली पड़ने वाली बर्फ और आज सुबह सुबह उसके ऊपर चमकती धूप देखकर।

Leave a Reply 15,003 views |
Tags: ,
  • No Related Post
Follow Discussion

14 Responses to “जाड़ों की नर्म धूप और …”

  1. Mohan Says:

    i love my uttarakhand please snet me vest site uttarakhan

    merapahad.com and other

    thanks

  2. naveen deopa Says:

    dajyoo aaj bhi pahad mai wahi sab kuch hota hai. trai mai kohra or pahad mai dhoop. aapney hamari bhi purani yadey taza kar dee……

  3. Lakshmi Says:

    Hi, Its a true story about uttarakhand, lovely to read this, i also memorizing my old days when i was in hills, missing home to much….

  4. Man Mohan Bhatt Says:

    jab aaj bhi ghar jate hai to Tanakpur( my home town is PITHORAGARH) se aage paharo par car ke charte hi apne bachpan ke din yaad aajate hai… fursat ke pal …ijaa ka dopahar ke wakt awaj lagaa kar bulana….wahee waqt achchha tha …fursat ke raat din…But the life is not only fursat ke pal ..it requires a lot of hard work along with the infrastuctures for the progress…..then we uttrakhandi goes out of our Janmbhumi for…….. ROTI …..when chitthee…..aati hai …we returns……to spend some fursat ke raat din….and enjoys..the ijaa and baujii”s MADUA ki roti and lovely thechya aaloo…Laggar.

    Thankyou for taking back in sweet mmemories..

  5. Reena Says:

    Hi, its true apke is lekh se mera bachpan yaad ho aaya i love my pahad missing tooooooooo much.

  6. mangal singh jethuri Says:

    uttarakhand is a lovely state. i am proud that a am uttarakhandy.
    there live a simple people.i missing every time uttarakhand. when we go to village then not wish come back.

  7. Devkinandan Kevalkrishan Tripathi Says:

    बायगोड दाज्यू आपने पुरानी यादें हरिभरि कर दी. भोते दिनो बाद आज फिर गोरू के गोठ से आती खुशबू , केंजा, ज्याडजा के हातों का बना सिंगल , मिश्री के ढेले के साथ चाय सुड़कना, आमा ने बनाई बड़ी ,रायता, मडुवे की रोटी , ईजा बाबू के साथ दुनागिरी मंदिर के दर्शन , वो टेडीमेडी सर्पिली सड़कें, बर्फ से ढके पहाड़, चीड़ के उँचे पेड़, चित्तई का मंदिर, बालमीठे ,सींगोडी,किल्मोड, हिशॉलू, कांफो, नारंगी के दाने ,सभी बहुत याद आते हैं . अब तो इस गर्मियों मॅ पहाड़ (घागलोडी , द्वाराहाट) जै बेरे उन.

  8. Dr Vinita Sinha Says:

    aapne meri nani ke ghar ki yaad dila di jo main lagbhah bhool hi gayi thi jeevan ki aapadhapi me.jeevan ke sunhare din. chakotara dahi wala pahad ki baal mitai, singhudi pata nahi kaha kab dubaara swaad lungi. dhanyawaad aapka jo man me halki si, meethi si kasak jaga di. maa ki yaad ne tho dil ko nichod diya. sada yu hi likhte rahiye…..

  9. Deepak Singh Negi Says:

    I love my uttrakhand,i would like go in uttranchal on every dec qtr.When i read just on 12th class i see lot of quality in weather i like seen that preivew again,i like every person enjoy of this momentem.

  10. madan mohan Says:

    Aap ne ye lekh dekar mera to din hi acha kar diya thank u hamara pahad hamesha se hi abismarniya rahega. thanx a lot again

  11. Surendra Bisht Says:

    Thank you Dajyu !
    Years had passed, but the memories of those days is still alive.I still remenber, “hamare bubuji direction dete the chachaji ko, kaise sagar me moti moti 2 lakdiya lagani hain,ped ki jad ya koi gaanth ke moti lakdi hua karti thee. Uske upar ek khokhla kanastar rakha jata tha dhuye ko upar direct karne ke liye. Ham sab charo or baith kar padte the, padte kya the chuchap baten sunte rahte the.Sardiyon ke vacations main face aur hath kale ho jaya karte the aag sek sek kar. Gur khane ko milta tha, jo chai pete the wo bhi gur ke sath peete the.Gur aaj bhi utna hi achha lagta hai sardiyon main.Pahadi hone ki yaad jo dilata rahta hai.”
    Lot of memories, I can keep on writting pages and pages.Feeling too nostalgic, this time I will sure visit our origional pahads,since my family is settled in Nainital (last 10 years), I never enjoyed the real warmth of home place.This time sure I will revisit my golden days of childhood.
    Happy winters!

    Surendra

  12. Pratap singh rawat Says:

    Thanks for being connected through this website.
    this is a good medium to interact with Uttarakhand and its people..

    i specially congratualte the makers of this website

    Keep This Website ROCKKKKKKING

    Love u all

    Pratap SIngh Rawat
    Sarojini Nagar,
    New Delhi
    9871579738

  13. baldev pangaria Says:

    Its realy a story of every one who has been removed from root.
    bina jad ke ped hain hum bahar kyonki hamari jaden aaj bhi pahoron main basii han.
    jai bharat
    jai uttrakhand.
    we all are proud to be an uttrakhandi

  14. lalit joshi Naila ( Doula) Says:

    very very nice

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।