< Browse > Home / कुमाऊँनी संगीत, गीत और संगीत, विडियो / Blog article: कुमाऊँनी कवि शेरदा अनपढ़ का कविता पाठ

| Mobile | RSS

  

कुमाऊँनी कवि शेरदा अनपढ़ का कविता पाठ

क्या आप जानते हैं ग्राम सभा, विधान सभा और लोक सभा किसे कहते हैं? अगर नही तो इस पोस्ट को जरूर पढ़िये। शेरदा अनपढ़ कुमाऊँ क्षेत्र के बहुत प्रसिद्ध कवि हैं, इनकी दो कवितायें (O Parua Boju and, Mat Maro Mohana Pichkari) मैंने आपको पहले सुनवायी थी। आज यू-ट्यूब में घूमते घूमते कुछ और मिल गयी। ये कवितायें वो कौसानी में एक सभा में सुना रहे हैं।

अगर आपको कुमाऊँनी नही आती तो भी आप समझ सकते हैं क्योंकि बीच बीच में हिन्दी में शब्दों के अर्थ भी बताये हैं। ग्राम सभा, विधान सभा और लोक सभा के बारे में (परिभाषा) अंतिम विडियो में बताया है।

कोछे तू (कौन है तू)

शोक सभा, ग्राम सभा, विधान सभा और लोक सभा की परिभाषा

Leave a Reply 32,179 views |

Comments are closed.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।