< Browse > Home / गीत और संगीत, त्‍यौहार / Blog article: Holi: क्या हम अपनी पारम्परिक होली को फास्ट फारर्वड करते जा रहे हैं?

| Mobile | RSS

  

Holi: क्या हम अपनी पारम्परिक होली को फास्ट फारर्वड करते जा रहे हैं?

मेरा ये मानना रहा है कि हमारी संस्कृति को सबसे बड़ा खतरा बाहर के लोगों से नही बल्कि अपनों से होता है। अगर ऐसा नही होता तो काँटा लगा माफिक पुराने गीतों की मिक्सिंग गोरे कर रहे होते लेकिन ये रिमिक्स की अंधी दौड़ अपन लोगों ने ही शुरू की। दरअसल आजकल गीत आडियो के मार्फत कम विडियो के मार्फत ज्यादा सुने जाते हैं, शायद इसीलिये संगीत का ढर्रा बदलता जा रहा है।

अभी जब मैंने होली के गीतों पर बना ये “कैले बाँधी चीर” नानॅ स्टॉप एलबम सुना तो बाल नोचने को मन कर आया। हो सकता है किसी को ये पसंद भी आये लेकिन इसके गीतों को सुनकर मुझे लगता है बनाने वाले और गाने वालों ने अपने उत्तराखंड की होली का ज्ञान ताक पर रखकर ये एलबम बनाया है। सारा का सारा एलबम एक ही सुर और एक ही ताल में शुरू होकर उसी में पूरा हो गया। आप जरा सैंपल सुनकर देखिये क्या ऐसा ही नही है?

एक ही सुर एक ही ताल:

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

चीर के चारों ओर घेरा बाँधकर गाने वालों के लिये अगर इस ऐलबम को चला दिया जाय तो उनकी समझ ही ना आये की कदम कब आगे की ओर बढ़ाने हैं कब पीछे। गीतों को सुनकर लगता है हम फास्ट फारर्वड में गीत सुन रहे हैं। वक्त की कमी हो शायद या थोड़े में ही बहुत कुछ समेटने की चाह, ये तो बनाने वाले ही जानें।

मैंने कुछ होलियाँ देखी भी हैं, इन्हें गाया भी है और गाते हुए पहाड़ियों को सुना भी है लेकिन इस फास्ट फार्वड लय और सुर में पहली बार सुना। हो सकता है आने वाले कुछ समय में कोई उत्तराखंड या कुमाऊँ की पारम्परिक होलियों को अच्छी रिकार्डिंग के साथ वेब में उपलब्ध करा सके फिलहाल ऐसा नही है। कुछ गीत मौजूद हैं लेकिन वो इतने क्लीयर नही कि इन पारम्परिक होली को ना जानने वाले उन्हें सुनकर कुछ आनंद उठा सकें या ठीक से समझ सकें।।

उस एलबम को इतना गरियाने के बाद कम से कम इतना तो कर सकता हूँ कि एक पहाड़ी होली आपको सुनाता चलूँ, (शक की कोई गुंजाईश ना हो इसलिये पहले ही बता दूँ ये मैंने नही गायी है)। हमारे यहाँ होली कुछ ऐसे ही गायी जाती है, दरअसल ये खड़ी होली के लिये गायी गयी है। जिसमें चीर के चारों ओर घुम घुम के इसे गाया जाता है, गीत के उतार चढ़ाव के साथ साथ ही कदम थिरकते हैं। बैठ के गायी जाने वाली होली और ज्यादा शास्त्रीय पुट लिये होती हैं।

अब इस होली को सुनिये और फर्क देखिये, होली है –

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

हाँ हाँ हाँ मोहन गिरधारी
ऐसो अनाड़ी चुनर गयो फाड़ी
हँसी हँसी दे गयो गारी
मोहन गिरधारी।

आप सभी को रंग बिरंगी होली की बहुत बहुत शुभकामनायें।

Leave a Reply 11,859 views |

Comments are closed.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।