< Browse > Home / कुमाऊँनी संगीत, गीत और संगीत / Blog article: पहाड़ी गीतः पहाड़ छूटी ग्यो

| Mobile | RSS

  

पहाड़ी गीतः पहाड़ छूटी ग्यो

अपनों से बिछड़ने की व्यथा (यानि Home Sickness) को व्यक्त करता है ये गीत। एक पहाड़ी नौकरी की तलाश में पहाड़ छोड़ कर परदेश (यानि मैदानी इलाके या फिर दूसरे देश) चला जाता है। उसके बाद उसे याद आती है घर की सब बातें, उस पहाड़ की बातें जहाँ देवताओं का धाम है, घर छोड़ते वक्त माँ की आँखों में आये आँसू, याद आते हैं दादी, दादा, पिता, भाई और बहिन, याद आते हैं सावन भादो के महीनों में होने वाले मेले।

सुनिये ये मधुर गीत:

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

उत्तरांचल के सभी पाठकों को नये साल की बहुत बहुत शुभकामनायें।

डिस्क्लेमर:उत्तरांचल में पोस्ट होने और बजने वाले गीत सिर्फ कुमाँऊ और गढवाल के संगीत को बढावा देने के लिये विज्ञापन मात्र ही हैं, ये कहीं से भी असली सीडी और कैसेट का विकल्प नही है। पसंद आने पर कृप्या असली कैसेट और सीडी ही खरीदें।

Leave a Reply 13,415 views |
Follow Discussion

24 Responses to “पहाड़ी गीतः पहाड़ छूटी ग्यो”

  1. Dr.Arvind Mishra Says:

    बहुत भावप्रवण -रुला देने वाला गृह विरही गीत !

  2. govind goyal Says:

    virah vedana ke bhav ne man vibhor kar diya. narayan narayan

  3. gaurav sharma Says:

    I like this song

  4. dinesh Says:

    I like this song…………

  5. dinesh Says:

    I like this song…………

  6. dinesh Says:

    I love this song…………

  7. mukul nainwal Says:

    Ezu ka aasu dekheba mero heo bare go..I like it

  8. ghughutibasuti Says:

    नववर्ष की शुभकामनाएँ ।
    बहुत मधुर व नौराई वाला गीत। सुनवाने के लिए धन्यवाद।

    घुघूती बासूती

  9. Hem Pant Says:

    यह गाना बाल कलाकार रोहित चौहान की आवाज में है. गाने का वीडियो भी बहुत अच्छा बना है. रोहित की माताजी श्रीमती कल्पना चौहान हैं जो उत्तराखण्ड की मशहूर गायिका हैं, उनके पिता राजेन्द्र चौहान भी उत्तराखण्ड लोक संगीत के प्रतिष्ठित संगीतकार हैं.

    @हेम ये वाला गीत रोहित की आवाज में नही है, हाँ रोहित ने भी ये गीत अपने एक विडियो एलबम के लिये गाया है

  10. Gaurav Singh Says:

    Happy new year

  11. Gaurav Singh Says:

    Happy new year all Uttrakhand

  12. Rajinder Rana Says:

    Wishing you all Very Happy New Year

  13. Tarun Says:

    @हेम, ये गीत सबसे पहले मैने विडियो मे ही सुना था, रोहित चौहान आजकल काफी हिट चल रहा है, लेकिन ये वाला गीत रोहित की आवाज में नही है, हाँ रोहित ने भी ये गीत अपने एक विडियो एलबम के लिये गाया है। इसी का गाया गौरी मुखड़ी कुछ महीनों पहले पोस्ट किया था। रोहित के बारे में ज्यादा जानकारी देने के लिये धन्यवाद।

  14. sukhbir singh Says:

    Hello

    SABHI UTTARANCHALI LONGON KO NAYE SAAL KI SUBHKAMNA

    AUR DHER SAARI KHUSIYON KI KAMNA KARTA HOON

    DHANIAVAD TO ALL UTTARANCHAL MEMBERS

  15. MUSAFIR JAT Says:

    तरुण जी, मेरे पास तो गाना श्रवण यंत्र नहीं है, इसलिए मैं इस गाने को सुन नहीं पाया. मौका मिलते ही सुनूंगा.

  16. GAURAV KANDWAL Says:

    MERI TERF SE SABI GADWALI BHAIYO KO HAPPYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYYY REBULIC DAY AUR AAP SABI KO MERA NAMN

  17. पंकज सिंह महर Says:

    तरुन भाई,
    यह गीत वाकई हमारी पीड़ा को व्यक्त करता है, लेकिन अगर पोस्ट में इसके गीतकार, गायक और एलवम का नाम भी होता तो और अच्छा होता।

  18. Tarun Says:

    @पंकज भाई, इसका पता होता तो जरूर लिखता जैसा कि अन्य में भी लिखा है। अगर आपको कुछ पता चले तो जरूर बतायें।

  19. chatar singh pundir Says:

    hi .tehari goog city…..

  20. dev bajetha Says:

    such a lovely song
    thnx tarun bhai and happy holi to all of my uttarnchal vassiyo………..

  21. dinesh negi Says:

    First time, I have gone thru this type of website. Its really interesting. pls keep me informed about all new things to be uploaded in to this web.

    Thanks

    dinesh

  22. manoj arya Says:

    i love this song so much

  23. manoj arya Says:

    so lovely

  24. nanda B Awasthi Says:

    I love my Uttarakhand and live and die in the deep green hills and snowpeaks of Hiamalaya.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।