< Browse > Home / Uttarakhand News / Blog article: कनाडा में एक गीतों भरी शाम नरेन्द्र नेगी जी के साथ

| Mobile | RSS

  

कनाडा में एक गीतों भरी शाम नरेन्द्र नेगी जी के साथ

August 7th, 2008 | 18 Comments | Posted in Uttarakhand News

स्कारबोरो टोरन्टो कैनाडा में वहां की संस्था उत्तराखन्ड कल्चरल एशोसियेशन ने 2 अगस्त 2008 को उतराखन्ड के इस सदी के महान गढ़वाली बोली के गायक नरेन्द्र सिह नेगी जी के साथ गीतों भरी सांझ का आयोजन किया ।

इस सुर सम्राट को सुनने कैनाडा के प्रत्येक शहर से, जिनमे मौंट्रियाल से सुधीर रावत जी, नेगी जी व अन्य बन्धु; आटुवा से हरेन्द्र असवाल व साथी; कारनवाल से खिमा भाई व साथी; लिमिंगटन से डा तिवाडी व साथी; किचनर से हर्ष फरासी व साथी; विंन्डसर उडव्रिज व उसके आस पडोस से कई गढवाली परिवर के साथ साथ अमेरिका न्यू जर्सी से इन्द्र बलोदी परिवार; विजय शर्मा व साथी; न्यूर्याक से कई गढ़वाली परिवार सम्मलित हुए। इस सांझ में भारत से, दो सम्मानित राजनेतिक पार्टी, कांग्रेस के भूतपूर्व राज्य मंत्री धीरेन्द्रप्रताप शर्मा व यु के डी के युवा विधायक श्री त्रिपाठी जी विशेष अतिथि के रूप यहां पधारे।

अपने भाषण में उन्होने संस्था के आयोजकों को व उतराखन्ड से आये इस महान गायक को अपनी शुभकामनायें दी। साथ मे विशेष रूप इस कार्यक्रम को सफल बनाने व नेगी जी को यहां आमत्रित करने व उतराखन्ड की बोली भाषा के हिमायती पाराशर गौड जी का धन्यवाद देना नही भूले।

संस्था के सचिव भारत रावत ने आपने भाषण मे नरेन्द्र नेगी जी व मुख्य अतिथियों का स्वागत करते हुए ठाकुर भुपेन्द्र सिंह असवाल जी व पाराशर गौड जी का, जिन्होने आर्थिक सहायता के साथ अन्य सहायता दी, उन्हे विशेष रूप से धन्यावद देते हुए यहां के प्रत्येक परिवार को जिन्होंने इस सांझ को सफल बनाने में योगदान दिया उनको नमन होकर धन्यवाद देकर मंच नेगी जी के हवाले कर दिया ।

गीत संगीत की इस शाम की शुरूवात नेगी जी ने मांगल व गढवाल कुमाँऊ मे पूजी जानेवाली मां नन्दा देवी की स्तुति से की, उसके बाद जैसे ही “ठन्डो रे ठन्डो मेरा पहाड़े की हव्वा ठन्डी” की धुन बजी हाल मे बैठे लोग अपने आप को रोक नही पाये और मंच पर उतरकर नाचने लगे। उसके बाद एक के बाद एक रसभरे गीत सुनाकर अप्रवासी उत्तराखन्डियों का मन मोह लिया। “भलु लगद बनुली तेरो” वाले गीत में तो पूरी युवा पीढ़ी थिरक उठी। अभी नाचने वाले सांस ले ही रहे थे कि “तेरू मछोई गाड बगीगे ले अबत खैले माछा” ने सब को उठाकर नाचने पर मजबूर कर दिया।

रंगारंग संगीतमई सांझ अपने पूरे यौवन पर थी, माहौल की नाजुकता को पहचानना तो कोई नेगी जी से सीखे, कि कब क्या गाना है। उन्होंने अपने मित्र पाराशर जी के लिए एक गीत गा कर मित्रता तो निभाई ही निभाई साथ में उन्हे उनकी समधन जो कि अभी अभी भारत से आई थी को भी फ्लोर पर नचवा कर ही छोडा। जनता ने भी गीत के रिदम के साथ तालिया बजाकर इन दोनो का साथ दिया। इस तरह के गीतों को गा कर नेगी जी ने इस शाम को और भी खुशनुमा बना दिया।

फिर दौर था फरमाईसी गीतों का जिनमें कई गीत गाये गये “धुधुती धुरौण लगी म्यारा मैत की”, “कु ठुंगी नी पुजी”, “शुरूमा औजई बसन्त ऋतु”, “मेरा मुल्क जई, कन्वु लडिक बिगडि म्यरू आदि आदि। सब ने जनता का भरपूर मनोरंजन किया। फरमाईसी गीतो की लिस्ट बड़ती ही जा रही थी साथ में समय भी बडी तेजी से गुजरता जा रहा था, पता ही नही चला कि कब 12 बज गये। नेगी जी के पास “नौ छम्मी नारैयंण” वाले गीत की बार बार फरमाईश के बाद आखिर उन्हें सुनाना ही पडा। इस गीत ने हाल मे बैठे सभी लोगों को नचा डाला। इस संध्या का यह आखिरी गीत था।

अन्त में भारत से आये रावत जी, जो कि किसी इन्टरनेशलन कंपनी के सैक्ट्ररी जर्नल है उन्होंने शाल उडाकर नेगी जी को सम्मानित किया। श्रीमती उषा नेगी जी को संस्था की उपाध्यक्षा माधुरी बहुगुणा ने भी शाल उडाकर सम्मानित किया। अन्त में अध्यक्षा पुष्पा भदुरिया ने एक स्मृति चिन्ह देकर दोनों का सम्मान किया। इस तरह यह गीतों भरी सांझ रात्री भोजन के साथ समाप्त हुई। यह संध्या यहां पर बसे अप्रवासी उत्तराखन्डियों को हमेशा याद रहेगी।

- कनाडा से सचिन गौड (दिनाक 4 अगस्त 08)

 

Leave a Reply 8,422 views |
Follow Discussion

18 Responses to “कनाडा में एक गीतों भरी शाम नरेन्द्र नेगी जी के साथ”

  1. Anurag Arya Says:

    maje loot liye aapne to…..

  2. समीर लाल 'उड़न तश्तरी वाले' Says:

    अच्छी रपट. हमें पता ही नहीं चला.

  3. dinesh Says:

    Pardkar achha laga…………………
    Thanks

  4. Bhupender Singh Negi Says:

    Negi ji ka Canada Jana or waha rahnewale Uttrakhand priwaro ko unki janmbhomi ki yad taro taja karayi, hum sabhi uttranchaly bhai iske liye unka dil se dhanyawad karte hai…………………

    Jai Uttranchal
    Bhupender Singh Negi

  5. indra mohan singh Says:

    pl send me all songs of Jitu Bagadwal, Agar kisi ke pass ho to.

  6. vinay singh rawat Says:

    negi ji ne to kanada ja kar gadwal ka sir onchaa kar diya he sing a song very good they voice r’ is a very good i love the negi ji old song from the filam gharjavai thanx ———————————–
    vinayraw1487@yahoo.com

  7. Ram Dutt Tiwari from Dubai (UAE) Says:

    Tarun ji, thankyou for information & i hope in future you will send information eternally.

  8. parashar Says:

    Tarunji

    ek baat yaha per kahan chaungaa GEET or LOG geet ke bare me.

    GEETaur LOK GEET ke pervash kya hai .. is kin catogary ke tahat aate hai ..

    GEET ….. oo hote hai jo kise ki Rachna ho , yani Rachankar ka naam Saaf Saaf suna dekhe jata ho .jise sab log jante hai ki yaha RACHNA amukh rachnakar ki hgai… O GEET HOOT HAI.

    or

    LOK GEET .. o hota hai jo AAm admi ki juban per ho ( for example ” CHUMA BAU …” ) lakin RACHNAKAR ka naam ka patta na ho ..

    apne likha jaise ” Ghute ghruon lagee” ya Lok geet hai.. jo nahi hai…O to Negiji ka geet hai. theek Bado pako ye lok geet nahi hai bahlee ye sab ki jubaan per ho aur aam janata o se gaate hai..

    buss kewal ek baat kahan cha rha tha ..

    rgds
    parashar Gaur

  9. mukesh bhandari.rudraprayag(bawai) Says:

    garhwal main jitne bhee gayak hain wo sahee ratno ke saman chamakdar hain lekin un ratno main sabse, bara,sundar,aur chamakdar ratn hain( narendra singh negi) mera uttrakhand itna sunder hai aur jab main shree negi jee ke geeton ko sunta hoon to mujhe apna uttranchal garhwal aur bhee sunder lagta hai

  10. akela Says:

    mai un logon ka dhnyavad karta hoon jo es tarah ke karyakaram ka ayojan karte hain…yadi delhi main kahin koi es tarah ka ayojan ho to plz hame bhi suchit karna..akelapahalwan@yahoo.in par hum se jo bhi sahayta hogi karenge…..

  11. pan singh bisht puari garwal Says:

    sabi uttrakhand ka bhai bahan dide bulu ku te pan singh kotsara wale ka nameste hame logu te badu garve che ki hame logune uttrakhande ki darti ma janem le hame sabi logu ku pyare se rahade chaedu aure apur desi aure janebhume ku name roshan khane chiye nameste

  12. gurcharan singh Says:

    ze namshkar
    main punjab se kai baar uttranchal ghumne gaya hoon wahhan sab kuch natural hai paharon main ghoomna tample dekhana sab kuchtheek hai per wahan ek baaat theek nahinhai jo jaat paat ka chakkar hai mujhee ye sab theek nahin laga jab wahan ke log kammane ke liye city main aate hain tab koijaat nahi hoti city main jaa ke sc/bc ke saath kaam karte hai unhi ke saath rahete hain unhi ke saath kahtte hai to tab kuch nahi hota mere paas es baat kaa exmple hai ek wahhan ka b/c class ka pariwar jalandhar main retha hai jo ke railway main kaam karta hai uneke pass ek wahan ke thekur ka ladka 12 pass kar ke kaam ke chakkar main jalandhar aa gaya uneke pass 2 saal vo ladka unke pass raha 15 pass kar le unhike gahr raha unhi ke khaya kuch nahi hua uncle aunti katha raha 3 saal bad uski nakuri lag gai 6month bad uska jameer jaag gaya aleg ho gaya aana jana kam ar diya shaddi ho aana jana band ho gaya thode dinno baad namste dua salam bhi band ho gaya kya matlab ke liye he bada pan hai ye farak kab hoga

    iska jawab kisi ke pass ho to mujhe zaroor battaye
    thanks
    gurcharan singh
    jalandhar
    +919988739593

  13. Ramlal panchola Dubai Says:

    Mere Pyare Sabhi Uttrakhandi Bhaiyo Ko Sabse Pahle

    Ramlal panchola ki taraf se sadar Pranam Sweekar Ho.

    Shree narendra singh jee Hamare Garhwal ke Kohinoor heera se

    Bhi Badkar hain unko to hamare sat sat pranam

    unka canada jana our waan rahne wale Gadhwali Bhai, baino ko unki

    janm bhoomi yaad dilana our unko apne pyare Gadhwal ki yaad taro

    taza karana bahut hi khushi ki baat hai

    aise Gadhputra ko sat sat pranam. Dhanyawad.

  14. Balbir Dutt Naugain Says:

    Narender singh negi G ko mera saadar pranaam.
    Main negi G ke sabhi geetaon se prabhawit hun.
    kyaon ki negi G Uttrakhand ke ekmaatra ayese gayak hain,
    jinhon nain hamain hamaari janm bhoomi se jodne ka bahut hi bada
    kaam kiya hai. sath hi hamaari saanskritik dharohar ko sanjo kar rakha hai. main sabhi uttrakhandi baion se nivedan karta hun. negi G ko sada yaad rakhain
    Dhanyabad
    Balbir Dutt Naugain

  15. SPS RAWAT VILLAGE MATHAR CHAMOLI GARHWAL Says:

    I am greatly thankful from the deep of my heart to all the gentlemen who are showcasing our culture and traditions to the whole world.

    Mr. Narendra Negi is the pride of our Uttrakhand.

    Wishing all the best to all the gentlemen

  16. SANTAN RAWAT Says:

    thanks lot to providing a such kind of news, khatti mitti khabare and Negi ji tour in Canada.
    you are Great.

  17. Manish negi Says:

    hi friends, negi ji is so good & Famous Singer, i like too negi ji song bhalu lagdu.

  18. Rakesh Negi Says:

    hi friends, negi ji is so good & Famous Singer, i like too negi ji song bhalu lagdu.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।