< Browse > Home / सामान्‍य / Blog article: उत्तराखंड वर्षगांठ और शहीदों को श्रद्धांजलि

| Mobile | RSS

  

उत्तराखंड वर्षगांठ और शहीदों को श्रद्धांजलि

November 7th, 2007 | 7 Comments | Posted in सामान्‍य

९ नवम्बर यानि कि उत्तराखंड राज्य के अस्तित्व में आने की वर्षगांठ, इस दिन शायद सारे राज्य में खुशियाँ मनायी जायेंगी। जाहिर सी बात है वर्षगांठ होगी तो जश्न स्वाभाविक है। लेकिन उत्तराखंड में कुछ घर ऐसे भी होंगे जो अपने परिजनों की कमी आज के दिन कुछ ज्यादा महसूस करेंगे। ये वो घर हैं जिनके अपने उत्तराखंड राज्य के आंदोलन में शहीद हो गये।

मेरी समस्त हिंदी चिट्ठाजगत की तरफ से इन शहीदों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि, सभी शहीदों को सत सत नमन।

अपनों से ही लड़ी, हमने अपने आंदोलन की लड़ाई,
अपनों ने ही तब, हम पे कुछ गोलियाँ चलाई।

औरतों की अस्मत, जब लूटने आये लूटेरे,
अपने तब कुछ भाई, सीना तान आगे आ डटे रे।

हो गये शहीद, आंदोलन में वो कुर्बान हो गये,
‘तरूण’, उत्तराखंडियों में वो नया जोश भर गये।

आओ इस बरस फिर, उनकी चिताओं पर चंद फूल चढ़ायें
याद करके उन शहीदों को, वर्षगांठ का ये जश्न मनायें।।

Leave a Reply 1,960 views |
  • No Related Post
Follow Discussion

7 Responses to “उत्तराखंड वर्षगांठ और शहीदों को श्रद्धांजलि”

  1. K.S.RAWAT Says:

    पौडी गढ़वाल ग्रुप की नई दिल्ली शाखा , २५ नवम्बर २००७ को गढ़वाल भवन नई दिल्ली में सभी उत्तराखंडी लोग जो दिल्ली और आस पास रहते हैं, का एक फेमिली गेट टुगेदर करने जा रहे हैं. आप सब उत्तरांचल वासियों से आशा करते हैं की आप सब बड़ी संख्या में २५ नवम्बर २००७ को गढ़वाल भवन, नई दिल्ली मी पधारें . आप सब उत्तरांचल वासियों का २५ नवम्बर २००७ को गढ़वाल भवन में स्वागत है!
    के. एस. रावत
    पौडी गढ़वाल ग्रुप , नई दिल्ली
    http://groups.yahoo.com/group/paurigarhwal
    http://pauri-garhwal-group.blogspot.com/
    http:/www.paurigarhwal.com/

    पौडी गढ़वाल ग्रुप नई डेल्ही उत्तरांचल उत्तराखंड
    UTTARAKHAND, UTTARANCHAL, PAURI, TEHRI, NAINITAL, ALMORA, KOTDWAR, RISHIKESH, GAIRSAIN, CHAMOLI, DEVPRAYAG, NEW DELHI, INDIA

  2. समीर लाल Says:

    राज्य के स्थापना दिवस की बधाई एवं शहीदों को श्रृद्धांजली.

  3. Sanjeet Tripathi Says:

    राज्य स्थापना पर हमारी भी बधाई स्वीकार करें।
    शहीदों को श्रद्धांजलि!

  4. ghughutibasuti Says:

    मैं तो बहुत दूर हूँ किन्तु आप सब को अपनी तरफ से बधाई देती हूँ कि हमारा राज्य स्थापित हो ही गया । अब आप सबकौ इसे आगे हौ आगे ले जाना है ।
    उत्तराखंड दिवस व दिवाली की बहुत बहुत बधाई ।
    घुघूती बासूती

  5. jhoom Says:

    Aap sabko badhai. However, no one can ever forgt the scrifices made by those martyrs, the idea should be to move on and create another version of the ANDOLAN where the only those people get elected/deputed as members of the stat assemblies and various govt. organizations that have a genuine interest in the development of infrastructure, modernization, upliftment of the social and cultural programs and widespread improvement in education and job opportunities for this region. Unless that is met, we can all continue to crib about the present state and nothing will change. Its just not a Uttrakhand problem, but a worldwide problem. So the motto should be (starting for Uttrakhand only, since its a very new state)

    CAN WE DO IT !
    CAN WE ALL DO IT !

    YES WE CAN

    Ask all your friends, well wishers, journalists in particular, teachers to create a mass movement and go for the punch.

  6. KAILASH RAWAT Says:

    MERA UTTRAKHANDI BHAI JAI UTTRAKHAND

  7. manoj Says:

    hello i am brother of shaheed rajesh negi ,who sacrificed his life for this uttrakhand state,we all pray for those all saheed of uttrakhand and promise to make our state an idle state as the dream state of our saheed brothers who all are not with us now

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।