< Browse > Home /

| Mobile | RSS

माइक्रो पोस्टः बदलते रिश्ते

कह नही सकता ये बदलते दौर का असर है या बदलते रिश्तों का, फेसबुक जैसी सोशियल नेटवर्किंग साईट में दोस्तों का आंकड़ा भले ही १०० के ऊपर हो लेकिन अपने अपने पड़ोस में एक घर छोड़ कौन रहता है ये शायद ही किसी को मालूम हो। अपने पड़ोसी का शाम के वक्त घर आना गवारा [...]

[ More ] September 14th, 2010 | 3 Comments | Posted in बस यूँ ही |