< Browse > Home /

| Mobile | RSS

कबीरा खड़ा बाजार में: कबीर दास और उनके दोहे

ना काहू से दोस्ती ना काहू से बैर कहने वाले कबीर दास जैसा व्यक्तित्व शायद ही किसी और हिन्दी साहित्यकार का होगा। स्कूल के वक्त भी वो कबीर और उनके दोहे ही थे जो आसानी से समझ में आते थे। उनका व्यक्तित्व अनुपम तो था ही लेकिन उनके जन्म को लेकर कई किंवदन्तियाँ भी प्रचलित [...]

[ More ] March 11th, 2008 | 18 Comments | Posted in हिन्दी साहित्य |