< Browse > Home /

| Mobile | RSS

अमेरिकी चुनावः इस बार बन सकता है इतिहास

इस बार के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में एक इतिहास के रचे जाने की बहुत ज्यादा संभावना है और ये इतिहास रचेगी डेमोक्रेटिक पार्टी। लास्ट राउंड की रेस तक इस पार्टी के दो फाईनल उम्मीदवार हैं, बेरॉक ओबामा और हिलेरी क्लिटंन। यानि कि अमेरिकी इतिहास में या तो पहला अफ्रीकन-अमेरिकन राष्ट्रपति बनेगा या पहली महिला राष्ट्रपति। [...]

हल्ला मचा रखा है नंदीग्राम बंदीग्राम

इधर कुछ दिनों से देख रहा हूँ कि हर तीसरी या चौथी पोस्ट नंदीग्राम पर ही होती है, हिन्दी चिट्ठाजगत में नंदीग्राम का ही शोर है। अरे इतना शोर मचाने की क्या जरूरत है ये तो गरीब हैं, किसान हैं ये तो शायद पैदा ही कुचले जाने के लिये हैं। इनका ये ही हस्र होना [...]

दो नावों पर सवार, हर पल पड़ती मार

क्या मुझे बताना चाहिये कि यहाँ बात किस के संदर्भ में की जा रही है? शायद ये ही बेहतर रहेगा, मैं पाकिस्तान की बात कर रहा हूँ। अब आप ही देखिये ६० साल के इतिहास में २७ साल डेमोक्रेसी की सरकार चली और ३३ साल मिलेटरी का शासन, हुई ना दो नावों में सवारी। वैसे [...]

नच बलियेः नचा नचा के दुनिया हिला दे

कहीं आप ये तो नही सोच रहे कि मैं किसी देसी टेलिविजन में आने वाले किसी डांस कार्यक्रम का जिक्र कर रहा हूँ। अगर ऐसा है तो आप गलत सोच रहे हैं। मैं बात कर रहा हूँ उस शख्स की जिसने पहले भारत के राजनेताओं को नचाया था, अपनी कूटनीटि (या धूर्त राजनीति) से, मैं [...]

भारतीय देवता पार्टी

हिन्दू देवताओं के बारे में जरा सा भी इधर का उधर कहे जाने पर, या किसी फोटो का वैसा कर दिये जाने पर हत्थे से उखड़ जानी वाली पार्टी और बौखला जाने वाले कार्यकर्त्ता खुद कितने पानी में हैं उसकी ताजा मिसाल राजस्थान में देखने में आयी। कल न्यूज देखने में पता चला कि भारतीय [...]

जादू है ना जोर है कैसी माया है

१५० साल पहले भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई का बिगुल उत्तर प्रदेश में ही बजा था और ऐसा ही एक बिगुल आज फिर बजा जब मायावती की माया कब लोगों के सर चढ़ वोटों के रूप में बदल गयी किसी को पता ही नही चला। जाहिर सी बात है मायावती जो कि बहुजन समाजवादी पार्टी [...]

[ More ] May 12th, 2007 | 3 Comments | Posted in राजनीति |

वाह! इनका क्या कहना

अभी अभी ये खबर पढ‌ी, वैसे कठोर सिंह से ज्यादा उम्मीद तो ना कभी थी ना कभी होगी लेकिन गद्दी के लिये कोई यहाँ तक जा सकता है पता ना था। नोएडा विजिट करने वाला कोई भी मुख्यमंत्री दुबारा मुख्यमंत्री नही बना आंकडे यही कहते हैं इसलिये कठोर सिंह ने नोएडा से किनारा करना ही [...]

[ More ] January 4th, 2007 | 12 Comments | Posted in राजनीति |

तेरे नाम

तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूँगा कि ही तर्ज पे थोड‌ा घुमा के कांग्रेस पार्टी ने बोल ही दिया, “तुम हमें वोट दो हम तुम्हें देश के संसाधनों के उपयोग का पहला हक देंगे”। गोया भारत के संसाधन कांग्रेस पार्टी की जागीर हों। माना कि राजप्रथा की तरह इस पार्टी में भी वंशज [...]

[ More ] December 13th, 2006 | 5 Comments | Posted in धर्म, राजनीति |

नेताओं को एक सुझाव

अभी अभी देखा कि एक बार फिर संसद में नेताओं के बीच हाथापाई होते होते रही तो सोचा क्यों ना लगे हाथ इन्हें एक सलाह दे डालें। सलाह ये है कि क्यों ना साल के एक दिन संसद को अखाड‌े में तब्दील कर दिया जाय, अन्दर से नही संसद के बाहर। और उस दिन इन [...]

  • Page 1 of 2
  • 1
  • 2
  • >