< Browse > Home / Archive by category 'Micro Post'

| Mobile | RSS

कान की बालियों का माला में पिरोया जाना फिर टूट के बिखर जाना

माइक्रो पोस्ट के रूप में एक छुटपुट विचारः कान की बालियाँ (या बुंदें) तो आपने देखी होंगी, दोनों कानों में अलग-अलग रहती हैं। (ईकोनामी के) ग्लोबलाईजेशन से पहले लगभग हर देश की ईकोनॉमी कुछ ऐसी ही थी, फिर बालियाँ माला में पिरोयी गयी यानि ईकोनॉमी एक दूसरे से लिंक हुई (ग्लोबलाईजेशन)। और उसके बाद एक [...]

[ More ] April 8th, 2009 | 6 Comments | Posted in Micro Post |

डिवाइड एंड रूल

आजादी से पहले अंग्रेजों ने इसी तरह राज किया, अब आजादी के बाद भारतीय नेता इसी तरह राज कर रहे हैं। कोई धर्म के नाम पर, कोई जाति के नाम पर और कोई भाषा के नाम पर बाँट कर शासन करना चाहता है। अंग्रेजों से अब कम से कम एक शिकायत तो कम हो जानी [...]

[ More ] November 3rd, 2008 | 10 Comments | Posted in Micro Post |