< Browse > Home / Archive by category 'जरा हट के'

| Mobile | RSS

विडियोः स्वतंत्रता दिवस की बधाई

स्वतंत्रता दिवस की इस बार की ६०वीं वर्षगांठ पर इस विडियो के मार्फत सभी को बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें। भारत को आजादी दिलाने के लिये शहीद हुए सभी शहीदों और इस आजादी को बरकरार करने के लिये अपनी जान की परवाह किये बगैर उसे गवांने वाले सेना के सभी जवानों को हमारी भावपूर्ण [...]

माई नी माईः ये माजरा क्या है?

लता मंगेशकर को तो सभी जानते हैं, हजारों गाने वो गा चुकी हैं लेकिन वो ऐसी गलती कर सकती हैं यकीन नही होता। किसी की तो है या तो लताजी की या फिर उस गीतकार की जिसने ये गीत लिखा। कई लोगों की तरह वो हमारी भी पसंदीदा गायिकाओं में से हैं, इसलिये हमें तो [...]

प्रीटी वूमेन

प्रतीक तो समय नष्ट करने के साधन पेश करते ही रहते हैं, इस बार हमने सोचा क्यों ना हम भी ऐसा करके देखें लेकिन बिल्कुल निठल्ले चिंतन के अंदाज में। तो साहेबान आईये बालीवुड और हालीवुड दोनों जगहों की अदाकाराओं को एक नये अंदाज में देखिये।

होली, गोली और होली के मस्ती भरे गीत

आज होली की सिर्फ कोरी बधाई ही नही दी जा रही है बल्कि कुछ मस्ती भरे होली के गीत भी आपकी खिदमत पेश हैं, आईये, सुनिये और होली का मजा लीजिये। निठल्ला चिंतन पढने वाले सभी पाठकों को होली की रंग भरी शुभकामनायें, दिल रंगिये, दूसरों को रंगिये और कोई नही मिले तो शीशे के [...]

हिन्दी ब्लोगिंग वर्जीनिया रेडियो पर

सुनिये वर्जीनिया रेडियो पर अनुराग द्वारा आयोजित हिन्दी ब्लोगिंग वार्ता में देबाशीष, ईस्वामी, शुकुल जी और अनुराग के बीच हुई बातचीत। बीच में हम ने भी ट्राई मारा था अपनी टांग अडाने का लेकिन कामयाब नही हो पाये तो जिस दौरान हम स्काईप पर कनेक्टेड थे उतने समय की बातचीत रिकार्ड नही कर पाये, अन्यथा [...]

[ More ] January 27th, 2007 | 21 Comments | Posted in जरा हट के |

एक सिक्के के दो पहलू

ये कोई पहेली नही जिसे बूझने का ईनाम हो – सिक्का है आतंकवाद, दो पहलू हैं शांति वार्ता और युद्व। सिक्का उछाला गया अब किस को क्या मिला ये कोई मुकद्दर की बात नही। ईजरायल के दो सिपाहियों को हिजबुल्लाह के लोगों ने बंदी बना लिया, ईजरायल ने किसी को ये कहने का भी मौका [...]

तेरा पानी अमृत, मेरा पानी पानी

ये सारांश कह रहा हूँ उस बात की चर्चा का जो अफगानिस्‍तान की गलियों और पश्‍चिमी देशों के गलियारों के बीच चल रहा है। (आप चाहें तो तेरा को मेरा कर दें और मेरा को तेरा अर्थ नही बदलने वाला) अभी तक अगर नही समझे तो कुछ यहाँ पढ़ोकुछ यहाँ पढ़ो और कुछ यहाँकुछ यहाँ। [...]