< Browse > Home / Archive by category 'जरा हट के'

| Mobile | RSS

अनिश्चित काल के लिये निठल्ला चिंतन बंद

सर्वसाधारण को सूचित किया जाता है कि निठल्ला चिंतन अनिश्चित काल के लिये बंद करना पड़ रहा है। निठल्ले के अचानक से त्याग पत्र देने की वजह से ऐसा किया जा रहा है। निठल्ले को मनाने और वापस लाने के लिये हमारी बातचीत जारी है लेकिन ये जल्दी होता नही दिख रहा। ये अभी तक [...]

[ More ] September 4th, 2008 | 13 Comments | Posted in जरा हट के |

लघु कथाः ये कैसी मोहब्बत

मैं नही जानता इसे लघु कथा कहनी चाहिये या नही लेकिन ये बहुत कुछ सिखाती है। मुझे एक ई-मेल में ये प्राप्त हुई जिसे मैंने अंग्रेजी से अनुवाद करके यहाँ पोस्ट कर दिया, साथ ही इसे ये टाईटिल भी दे दिया। एक अंधी लड़की थी जो अपने से इसलिये घृणा करती थी क्योंकि वो अंधी [...]

[ More ] July 18th, 2008 | 9 Comments | Posted in जरा हट के |

या तो नाखुन रख लो या iPhone

आज का गीत में बालिका बधु का एक बहुत ही प्यारा गीत सुनाने से पहले थोडा बात करते हैं नाखुनों और iPhone की। आप सोच रहे होंगे भला इन दोनों चीजों में कैसा कनेक्शन, कनेक्शन नही है तभी तो रोना है। अब तक सभी जान गये होंगे कि iPhone जो है वो टच स्क्रीन से [...]

[ More ] June 26th, 2008 | 7 Comments | Posted in जरा हट के, तकनीकी |

ये सिर्फ Adults के लिये

अगर आपकी उम्र 18 साल या उससे अधिक है तभी आप इस पोस्ट को पढ़ें या फिर अगर आपने मेरी पिछली पोस्ट पढ़ी है तब तो आपको इस पोस्ट को जरूर पढ़ना चाहिये, बाद में मुझे मत कहियेगा कि आपको नही बताया गया। पिछली पोस्ट से एक बात तो पता चल ही गयी कि सिर्फ [...]

ये सिर्फ बच्चों के लिये

हमारी ये पोस्ट सिर्फ और सिर्फ बच्चों के लिये है, अगर आपके बच्चे हैं तो उनसे पढ़वायें या आप पढ़ें फिर बच्चों से पूछें। अगर आपके बच्चे नही हैं तो आप खुद थोड़ी देर के लिये बच्चे बन जायें और फिर पढ़कर देखें कि आप कितने स्मार्ट हैं, मेरा मतलब है आर यू स्मार्टर दैन [...]

ब्लोगर की कहानी एक पोस्ट की जुबानी

मेरी ये पोस्ट उन तमाम लोगों को समर्पित है जो कुछ ना कुछ लिख रहे हैं, चाहे किसी चिट्ठे की किसी पोस्ट के रूप में या कही किसी चिट्ठे में टिप्पणी के रूप में। किसी एवार्ड की चाह में या निर्विकार भाव में, चाहे उनकी पोस्ट किसी को भाये या खुद ही देख मंद मंद [...]

विडियो श्रृंखलाः वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी – 3

वो सॉरी बोल रहा है। याद आया कुछ, अगर नही तो इस बार पेश है एक बहुत ही प्यारी क्लिपिंग। साथ में है सरप्राइज जिसे शायद बहुत कम ही जानते होंगे, मुझे भी नही पता था। अच्छा कोकाकोला, पेप्सी और थम्सअप के अलावा कौन सा ड्रिंक आपको याद है, दिमाग पर जोर डालिये क्या पता [...]

[ More ] January 22nd, 2008 | 2 Comments | Posted in जरा हट के, विडियो |

विडियो श्रृंखलाः वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी – 2

अपना देश अनेकता में एकता का बड़ा अच्छा उदाहरण है, अनेकता में एकता की बात करें तो याद आता है एक-अनेक वाला विडियो इसके बाद कुछ और कहने की जरूरत ही नही है। और अगर आपको जंगल में चड्डी पहन कर खिले हुए फूल को देखे जमाना हो गया है तो आज वो भी देख [...]

[ More ] January 21st, 2008 | 5 Comments | Posted in जरा हट के, विडियो |

विडियो श्रृंखलाः वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी

आज से हम शुरू कर रहे हैं एक विडियो श्रृंखला जिसमें टेलिविजन की दुनिया में दिखाये गये कुछ सीरियलों और विज्ञापनों के अंश दिखायेंगे। ये वो सीरियल हैं जो वक्त में खत्म हुआ करते थे जिनकी कहानियों में अंत होता था ना कि आजकल के कभी ना खत्म होने वाली बकवास भरे सीरियल। ये वो [...]

[ More ] January 17th, 2008 | 4 Comments | Posted in जरा हट के, विडियो |