< Browse > Home / Archive by category 'बस यूँ ही'

| Mobile | RSS

खालीपीली का चिंतन

सोचा चिंतन का तरीका थोड‍ा बदला जाय, निठल्ला चिंतन करते करते बोर हो गये हैं। इस बार खालीपीली भंकस (बकवास) करने की सोची, बकवास हम किये देते हैं चिंतन आप बैठ कर करते रहो। अब देखो ना अपनी दुनिया गरीब की चादर जैसी हो गई है, एक जगह से सिलो (सिलाई करना) तो दूसरी जगह [...]

कॉल सेंटर

ये जनाब शायद इंडिया के कॉल सेंटर से रूबरू हुए बिना ही यह मूवी बना बैठे, १२ मिनट की मूवी आप भी देखिये और मजा लीजिये।

[ More ] July 24th, 2006 | 2 Comments | Posted in फिल्‍म, बस यूँ ही |

नीम हकीम खतरा-ए-जान

काफी पुरानी कहावत है, अब सबको इसका मतलब पता है कि नही कह तो नही सकता लेकिन इतना बता सकता हूँ कि भारतीय ब्लोगर (जो भारत से ब्लोग करते हैं) जरूर इसका मतलब अब तक जान गये होंगे। हुआ यों कि भारतीय सरकार ने, जो भी कारण रहा हो उसके चलते कुछ इंटरनेट साईटस (20-22) [...]

एक सिक्के के दो पहलू

ये कोई पहेली नही जिसे बूझने का ईनाम हो – सिक्का है आतंकवाद, दो पहलू हैं शांति वार्ता और युद्व। सिक्का उछाला गया अब किस को क्या मिला ये कोई मुकद्दर की बात नही। ईजरायल के दो सिपाहियों को हिजबुल्लाह के लोगों ने बंदी बना लिया, ईजरायल ने किसी को ये कहने का भी मौका [...]

सीरियाना और बहकता मैं

अभी कुछ दिनों पहले ही ये फिल्म देखी थी, इसके बारे में कुछ लिखने से पहले ही धमाके हो गये। मुम्बई वाले सीना चोड़ा करके फिर से घुमने लगे जैसे कह रहे हों देख लो हम नही डरे अगली बार ज्यादा तैयारी के साथ आना। जब ईराकी हर दिन होने वाले विस्फोटों के बाद भी [...]

[ More ] July 12th, 2006 | Comments Off | Posted in बस यूँ ही |

मर्सी किलिंग – जिंदगी और मौत की जद्वोजहद

आनंद फिल्म का एक डायलॉग था, जिंदगी की डोर ऊपर वाले के हाथ में बंधी है वो कब इसे खींच ले…वगैरह वगैरह। लेकिन ये लाचार माँ बाप अपने एप्लास्टिक एनेमिया से पीड़ित बच्चे की जिंदगी की इसी डोर को खींचने की दुहाई के लिये राष्‍ट्रपति महोदय का दरवाजा खटखटा रहे हैं। इसी तरह के एक [...]

अंग्रेजी में चर्चा

परिचर्चा की देखा देखी हमने भी अंग्रेजी में एक फोरम डाल दी है, जब नई पोस्‍ट लिखने का टाईम ना हो तो यहाँ चार लाईना लिख देंगे। इसे बनाने का तो ४-५ साल पहिले सोचा था लेकिन ब्‍लोग शुरू करने पर भूल ही गया था। आप में से कोई सहयोग देने का इछुक हो तो [...]

[ More ] May 14th, 2006 | 5 Comments | Posted in बस यूँ ही |