< Browse > Home / Archive by category 'खालीपीली'

| Mobile | RSS

ज्ञान विज्ञान और तकनीक पर ब्लोग

पिछले साल हमने तकनीक पर एक ब्लोग शुरू किया था जो समयाभाव के कारण तुरंत ही बंद भी कर दिया था। अब नये साल की शुरूआत के साथ ही इस पर लगा ताला खोल दिया गया है और एक नये कलेवर के साथ कंट्रोल पैनल हाजिर है। तकनीकी से जुड़े विषय के साथ-साथ हम समय [...]

[ More ] January 14th, 2008 | 2 Comments | Posted in खालीपीली |

इंडिया को माधुरी नही फूलन की वापसी चाहिये

अभी पिछले साल के आखिरी में माधुरी धकधकाते हुए बालीवुड वापस आयीं तो सब जगह चर्चे होने लगे। लेकिन वैसे अगर देखा जाये तो वो नही भी आती तो कुछ फर्क नही पड़ना था। क्योंकि माधुरी की वापसी से बालीवुड में फर्क पड़ता इंडिया में शायद ही। इंडिया में फर्क देखना है तो फूलन की [...]

[ More ] January 5th, 2008 | 3 Comments | Posted in खालीपीली |

अंग्रेजी के मध्य हिन्दी

अमूमन आज तक यही देखने में आता था कि हिन्दी अखबार वाले या मीडिया वाले अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल अक्सर करते रहते हैं। लेकिन इंटरनेट पर हिन्दी का बढ़ता प्रभाव लगता है अब अंग्रेजी मीडिया भी महसूस करने लगा है। अभी एक दिन पहले ही आइ बी एन की साईट देख रहा था तो अंग्रेजी [...]

[ More ] December 23rd, 2007 | 2 Comments | Posted in खालीपीली |

विचारों की आजादीः कहीं लगे आधा कहीं लगे ज्यादा

कुछ दिनों गायब रहने के बाद आया तो देखा कि मेरी पिछली पोस्ट पर पारूल की टिप्पणी थी कि मैं इस बाबत क्यों कर हिन्दी चिट्ठाजगत में सवाल पूछ रहा हूँ वो भी भारतीय नारी से। वहीं घुघुती जी का कहना था कि किसी को कोई कष्ट ना हो तो कुछ भी पहने यानि दो [...]

[ More ] December 4th, 2007 | 4 Comments | Posted in खालीपीली |

चिट्ठाकारों के वर्गीकरण की पोस्ट में पड़ी टिप्पणियों पर टिप्पणी

हमारी पिछली पोस्ट पर जम कर टिप्पणियों की ओला वृष्टि हुई अब ये अलग बात है कि हिन्दी चिट्ठाजगत के चेरापूँजी के लिये ये टिप्पणियाँ बूँदाबांदी से कम नही क्योंकि वहाँ तो ये रोज की बात है। यही नही टिप्पणियों के साथ साथ जम कर इस्मायली भी मिली । मेरे को लगा कि इतनी टिप्पणियों [...]

[ More ] November 19th, 2007 | 7 Comments | Posted in खालीपीली |

हिन्दी चिट्ठाकारों का वर्गीकरण

क्या आप जानना चाहते हैं कि आप हिन्दी चिट्ठाकारों के किस गुट या समुदाय या ग्रुप में फिट बैठेंगे, जानने या पता लगाने के लिये आपको इनके वर्गीकरण के बारे में पढ़ना पढ़ेगा। अगर आप को लगे कि नही इनमें से किसी भी खांचे में आपका फ्रेम फिट नही बैठता तो कोई बात नही जैसा [...]

हल्ला मचा रखा है नंदीग्राम बंदीग्राम

इधर कुछ दिनों से देख रहा हूँ कि हर तीसरी या चौथी पोस्ट नंदीग्राम पर ही होती है, हिन्दी चिट्ठाजगत में नंदीग्राम का ही शोर है। अरे इतना शोर मचाने की क्या जरूरत है ये तो गरीब हैं, किसान हैं ये तो शायद पैदा ही कुचले जाने के लिये हैं। इनका ये ही हस्र होना [...]

कॉपी राईट बनाम कॉपी पेस्ट

हम चिट्ठाकारों को बड़ी चिंता रहती है कि कहीं कोई हमारा माल चुरा कर अपनी दुकान में ना सजा ले, इसलिये हम कॉपी राईट का एक बड़ा सा बोर्ड अपनी दुकान के ओने कोने में कहीं ना कहीं लगा कर रखते हैं। इस बोर्ड को सभी बन्धुजन कॉपी राईट के नाम से जानते हैं। कॉपी [...]

[ More ] November 6th, 2007 | 7 Comments | Posted in खालीपीली |

ऐसे कश्मीर का आखिर क्या करेंगे?

आज प्रभा साक्षी में, मैं इस लेख गरीब मजदूरों पर टूट रहा है आतंकवादियों का कहर को पढ़ रहा था, ये पढ़कर तो ये ही लग रहा था कि ऐसे कश्मीर को लेकर हम आखिर क्या करेंगे। जब आतंकी इस तरह की खुलेआम घोषणायें करते हैं तो प्रदेश और देश की सरकारें प्रत्युतर क्यों नही [...]

[ More ] August 1st, 2007 | 5 Comments | Posted in खालीपीली |