< Browse > Home / Archive: September 2010

| Mobile | RSS

मुक्केबाज हो तो मेरी जैसी

भारत में क्रिकेट के अलावा बाकि खेलों की दशा दिनप्रतिदिन दयनीय होती जा रही है, ऐसे में १-२ प्रतिभायें हैं जो आशा की किरण बन कर हल्की सी उम्मीद को जिंदा रखती है। इन्हीं में से एक हैं महिला मुक्केबाज एम सी मेरी कॉम (M C Mary Kom) जिन्होंने विश्व मुक्केबाजी में लगातार पाँचवी बार [...]

[ More ] September 20th, 2010 | 2 Comments | Posted in sports, खेल खिलाड़ी |

माइक्रो पोस्टः बदलते रिश्ते

कह नही सकता ये बदलते दौर का असर है या बदलते रिश्तों का, फेसबुक जैसी सोशियल नेटवर्किंग साईट में दोस्तों का आंकड़ा भले ही १०० के ऊपर हो लेकिन अपने अपने पड़ोस में एक घर छोड़ कौन रहता है ये शायद ही किसी को मालूम हो। अपने पड़ोसी का शाम के वक्त घर आना गवारा [...]

[ More ] September 14th, 2010 | 3 Comments | Posted in बस यूँ ही |

रस्सी जल गयी पर बल नही गया

पाकिस्तान के ऊपर ये कहावत बिल्कुल ठीक बैठती है, हाल ही में आयी बाढ़ ने पाकिस्तान के एक हिस्से का जन-जीवन तहस नहस कर दिया है। तकदीर के मारे उन लोगों को पाकिस्तान सरकार उतनी तेजी से जरूरत के हिसाब से राहत मुहया नही करा पा रही है, इसके बाद भी उस देश के हुकुमरानों [...]