< Browse > Home / राजनीति / Blog article: एहसानफरामोश और अपराधलिप्त नेताओं के देश से वापसी

| Mobile | RSS

एहसानफरामोश और अपराधलिप्त नेताओं के देश से वापसी

January 1st, 2009 | 12 Comments | Posted in राजनीति

सठिया चुके दिमाग से उलूल-जुलूल संभावनायें तलाशते अंतुले और मौकापरस्त दलबदलू नेता दिग्विजय सिंह सरीखे नेताओं की जमात वाले देश से बुश को पुश करते ओबामा की रट लगाने वाले देश में हमारी सकुशल वापसी हो गयी है।

ये भारत अब वो भारत ना रहा, यहाँ “सच्चाई का बोलबाला, झूठे का मुँह काला” वाली कहावत बदल कर “एहसानफरामोश और अपराधलिप्त नेताओं का बोलबाला, जनता के मुँह पर ताला” हो चुकी है। आपको याद होगा, कुछ साल पहले की बात है जब दिसम्बर के महीने में देश की संसद, जहाँ हमारे सांसद नेतागण दिमाग और जबान से ज्यादा हाथ लात घूँसों का उपयोग करते हैं, पर कुछ आतंकवादियों ने हमला कर दिया था। इन लोगों की जान बचाने में कई जवानों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था। इन जवानों के परिवार वालों कि मदद तो दूर अब जब इनकी शहादत पर श्रद्धांजलि देने का दिन आया तो प्रधानमंत्री, नेता पक्ष-विपक्ष समेत बामुश्किल ८-१० सांसद ही इकट्ठा हुए। दिल्ली में होते हुए भी इनसे ये ना हो सका की श्रद्धा के दो फूल चढ़ा के आ सकें।

यहीं रहते हुए पढ़ने में आया कि देश की लगभग सभी प्रमुख पार्टियों में १५ से २५ प्रतिशत विधायक/सांसद अपराधिक रिकार्ड वाले हैं। इनमें नंबर एक पर है मायावती मैडम की बहुजन समाज पार्टी, इसी पार्टी के उत्तर प्रदेश के औरेया क्षेत्र के एक विधायक ने मैडम के जन्मदिन मनाने के लिये पैसा वसूल करने के लिये पहले एक इंजीनियर को अगुवा किया और उससे १० लाख रूपये की मांग की। पैसा ना मिल पाने पर इंजीनियर की पीट-पीट कर हत्या कर दी। ये हैं इस देश की नाव का बेड़ा पार लगाने वाले खवैया, रामराज्य तो देखने को नही मिला लेकिन लगता है आने वाले चंद वर्षों में रावण राज्य देखने को जरूर मिल जायेगा।

नव वर्ष का पहला दिन, आओ गायें मंगलगान
ना भूखा सोये कोई, ना देह बिना भटके प्राण।

Leave a Reply 2,457 views |
Tags: ,
Follow Discussion

12 Responses to “एहसानफरामोश और अपराधलिप्त नेताओं के देश से वापसी”

  1. अनूप शुक्ल Says:

    वाह। नये साल में नयी पोस्ट! मुबारक!

  2. Lovely Says:

    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये .यह साल आपके और आपके परिवार के लिए मंगलमय हो

  3. ताऊ रामपुरिया Says:

    आपको परिजनों व इष्ट्मित्रो सहित नये साल की घणी रामराम जी!

  4. amit Says:

    रामराज्य तो देखने को नही मिला लेकिन लगता है आने वाले चंद वर्षों में रावण राज्य देखने को जरूर मिल जायेगा।

    रावण के आने के बाद ही राम आए थे, तो इस बार पहले एडवांस में कैसे आ जाएँ!! ;)

  5. Gyandutt Pandey Says:

    नये साल का कमाल! सुषुप्तावस्था उठा पोस्ट लिखवाली आपसे!

  6. sandhya gupta Says:

    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

  7. Arsh Says:

    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

  8. hempandey Says:

    रावण राज्य का प्रारंभ हो चुका है. एक झलकी, उत्तर प्रदेश की घटना का वर्णन कर आपने भी दिखाई है.

  9. sanjupahari Says:

    Nav Varsh ke pahle din to nahi pad paya…
    नव वर्ष का पहला दिन, आओ गायें मंगलगान
    ना भूखा सोये कोई, ना देह बिना भटके प्राण।

    yehi dil se dua hai….ameeeeeeeeeeeeeeeeeen.
    Nav Varsh Mangal Mai hooo

  10. Abhishek Ojha Says:

    नव वर्ष की शुभकामनायें…

    देश की हालत पर कुछ कहने की इच्छा ही नहीं होती अब तो… बहुत आसरा था कि अब तो कुछ बदलेगा फिर वही नाटक चालु… भले कुछ भी हो वोट तो उसी को देंगे जो हमारी जाति का है !

  11. अतुल शर्मा Says:

    नववर्ष की शुभकामनाएँ!

  12. PRAKASH JOSHI Says:

    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये .यह साल आपके और आपके परिवार के लिए मंगलमय हो

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।