< Browse > Home / Announcement / Blog article: चेतावनीः कुछ हिंदी ब्लोगस आपके कंप्यूटर के लिये खतरनाक

| Mobile | RSS

चेतावनीः कुछ हिंदी ब्लोगस आपके कंप्यूटर के लिये खतरनाक

January 22nd, 2009 | 13 Comments | Posted in Announcement

सर्व साधारण को ये सूचना दी जाती है कि कुछ ब्लोगस जिन्हें आप बड़े चाव से पढ़ते हैं वो आपके कंप्यूटर की ऐसी तेसी करने का सामान मुहया कराते हैं। मुझे नही लगता कि उन ब्लोगस के मालिकों को इसका जरा भी इल्म होगा। आप सोच रहे होंगे ऐसा कैसे? तो ऐसा होता है या हो रहा है रस्ते का माल सस्ते में पाने के चक्कर में।

हर कोई अपने ब्लोग को सजाना चाहता है और इसके लिये यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ मत पूछो कहाँ कहाँ से फ्री में मिलने वाले विजेट गैजेट वगैरह वगैरह अपने ब्लोग में लगाते हैं और बस फ्री में मिलने वाली ये चीज और भी बहुत कुछ चीजें फ्री में पाठकों के कंप्यूटर तक पहुँचा देती है।

मेरे साथ ऐसा पहले भी हुआ और कल फिर से जब मैंने एक कार्टून चिट्ठे की पोस्ट पढ़ने के लिये क्लिक किया, साथ में एक दूसरी विंडो खूली (दुर्भाग्य से जल्दी में मैंने ये IE में खोला लेकिन फायरफॉक्स भी ज्यादा सेफ नही है) और वही हुआ जिसका मुझे डर था। खैर हमने इन सबकी सफाई में आने वाले झाड़ू पोछे लेकर रखे हैं, फिलहाल तो उस से काम चल जाता है लेकिन फालतू का वक्त जाया जरूर हो गया।

ये सब तब हुआ जब हम पहले ही बहुत सावधानी से ब्राउज करते हैं और १-२ सप्ताह में एक बार झाड‌ू पोछे का स्कोप जाँच लेते हैं। आप लोग भी ये कर सकते हैं, कैसे? इसके लिये मैं कंट्रोल पैनल में लेख पोस्ट करूँगा (कोशिश करूँगा आज ही) और बाकि सज्जन ब्लोगर से गुजारिश है एक बार अपने फ्री वाले गैजेटस में और नजर डाल लें क्योंकि उनकी गाज उनके खुद के कंप्यूटर में पहले पड़ेगी।

Leave a Reply 1,825 views |
Follow Discussion

13 Responses to “चेतावनीः कुछ हिंदी ब्लोगस आपके कंप्यूटर के लिये खतरनाक”

  1. अनूप शुक्ल Says:

    जानकारी का शुक्रिया।

  2. ताउ रामपुरिया Says:

    आपकी जानकारी तो अच्छी है पर हम ताऊ हैं सो कुछ समझ मे नही आता. हमसे तो कई जगह बेमतलब की खिडकियां मान ना मान तेरा मेहमान वाले अंदाज मे खुल जाती हैं और उनमे से कुछ निकल कर हमारे लेपटोप मे घुस जाते हैं. जब स्लो हो जाता है या काम नही करता तो अस्पताल मे दिखाते हैं. वहा डागदर जी कुछ फ़ीस लेके ठीक कर देते हैं और कहते हैं ताऊ तेरा कुछ नही हो सकता. इसको जितने दिन चले, चला ले फ़िर दुसरे का जोगाड कर लेना और हमारे पास आते रहना. :)

    अब हमारा क्या इलाज है? :) बताईये.

    रामराम.

  3. दिनेशराय द्विवेदी Says:

    आप सही कह रहे हैं।

  4. ranju Says:

    haan sahi kaha aapne .fir dubaara un blogs par jaane ka dil hi nahi hota hai

  5. alpana Says:

    bahut si shields lagayi hui hain main ne bhi.
    pahli to pop-up blocker hi hai.
    us ke baad har vaar brower band karne ke baad -CCcleaner chala deti hun aur sab saaf-
    phir bhi –sites hi nahin –kewal tasweeron[images] se bhi codes invade katre hain.dhyan rakhna hi padta hai.

  6. radhika budhkar Says:

    मेरा कम्प्यूटर तो पहले ही ऐसे ब्लोग्स की भेट चढ़ चुका हैं ,इतने trojan और वायरस आ गये हैं और कम्प्यूटर ठीक से काम ही नही कर रहा .

  7. पं. डी.के.शर्मा "वत्स" Says:

    ये तो आपने बहुत कमाल की जानकारी प्रदान की……
    धन्यवाद……

  8. shobha Says:

    बहुत उपयोगी जानकारी दी है। आभार।

  9. mamta Says:

    ओह हो कहीं यहीं वजह तो नही कि आजकल हमारा कंप्यूटर बार-बार क्रेश कर रहा है । कभी-कभी तो कमेन्ट देने के लिए कई-कई बार ब्लॉग पर जाना पड़ता है।

  10. seema gupta Says:

    “ओह इस समस्या से हम भी जूझ रहे है, कोई ब्लॉग खोलते हैं तो वही ब्लॉग कम से मम 40-50 window मे खुलता ही चला जाता है…..और परेशानी इतनी की बस , अब इसका क्या उपाय है….”

    Regards

  11. Vineeta Yashswi Says:

    Bahut achhi jankari uplabdha karayi apne.

    Dhanywaad

  12. हिमांशु Says:

    अच्छी जानकारी. खयाल रखेंगे.

  13. डा. अमर कुमार Says:


    सच है, मेरा नार्टन इन्टरनेट सेक्यूरिटी 2008, साथ ही स्पाईबोट भी स्टैटकाउंटर को
    लेकर सदैव चेतावनी देता रहा है । जोकि, मेरी समझ में फ़ाल्स वार्निंग थी..
    पर अब हटा दिया है । आपका सुझाया मैलवेयर बाइट भी मस्त है, और मेरे मशीन में
    अपना स्थान ग्रहण कर चुका है ।
    पर विचारणीय है, कि अमेरिकन चरित्र तो आपकी माँग पर
    मुफ़्त में पेशाब करना भी गवारा नहीं करता..
    फिर ऎसी मेहरबानियों के मंतव्य जाने बिना कुछ नया ज़ल्द ब ज़ल्द नहीं ही लेना चाहिये ।

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।