< Browse > Home / जरा हट के, तकनीकी / Blog article: या तो नाखुन रख लो या iPhone

| Mobile | RSS

या तो नाखुन रख लो या iPhone

June 26th, 2008 | 7 Comments | Posted in जरा हट के, तकनीकी

आज का गीत में बालिका बधु का एक बहुत ही प्यारा गीत सुनाने से पहले थोडा बात करते हैं नाखुनों और iPhone की। आप सोच रहे होंगे भला इन दोनों चीजों में कैसा कनेक्शन, कनेक्शन नही है तभी तो रोना है।

अब तक सभी जान गये होंगे कि iPhone जो है वो टच स्क्रीन से चलता है यानि कि इसे आप अपनी अंगुलियों से स्क्रीन पर बने आयकन पर टच करके आपरेट करते हैं। iPhone की टच स्क्रीन अंगुलियों की टिप से उत्पन्न होने वाले इलेक्ट्रिकल चार्ज से काम करती है। अब जाहिर है जिन्होंने लंबे लंबे नाखुन पाले हुए हैं वो फिंगरटिप से तो टच कर नही पायेंगे नाखुन से ट्राई मारेंगे और iPhone काम करेगा नही। इसके लिये कोई stylus (एक किस्म का पैन) भी नही है जिससे काम चल जाये।

इसीलिये कुछ लंबे लंबे नाखुनों वालियों ने आवाज उठाना शुरू किया है इस समस्या के लिये। लेकिन कुछ मुट्ठी भर लोगों के लिये सेब अपना रंग तो बदलने वाला नही है। इसीलिये हम कह रहे हैं या तो नाखुन रख लो या iPhone।

iPhone Fingernail problem Source: LA Times

आज का गीत: 1976 में तरूण मजुमदार निर्देशित एक बहुत खुबसूरत फिल्म रीलिज हुई थी नाम था बालिका बधु, आजादी की लड़ाई को बैकग्राउंड रख ये बाल विवाह पर बनी एक फिल्म थी। फिल्म में युवा नायक के रूप में थे सचिन और बालिक बधु का किरदार किया था रजनी शर्मा ने। सचिन के व्यस्क किरदार को आवाज दी थी अमिताभ बच्चन ने। संगीत था आर डी बर्मन का, इसी में पहली बार गीत गाया था किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार ने। अमित कुमार के गाये इसी पहले गीत को आज का गीत में चुना है और ये मधुर गीत है – “बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और“, और आप खुद ही सुन लीजिये और क्या।

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

Leave a Reply 2,598 views |
Follow Discussion

7 Responses to “या तो नाखुन रख लो या iPhone”

  1. sameer lal Says:

    SEB ko sunanaa to padega ek din..jald hi stylus aane wala hai isme..yah mera anuman hai. :)

  2. डा०अमर कुमार Says:

    ग्रेट !

  3. RC Mishra Says:

    गीत बहुत सुन्दर है, आपकी थीम खाली खाली लग रही है। ’options’ ट्राई कर के देखिये :)

  4. Gyandutt Pandey Says:

    दोनों ही सुन्दर हैं जी, आई-फोन या नाखून! बाकी हम दोनों से दूर हैं! :-)

  5. अनूप शुक्ल Says:

    :) iphone का तो पता नहीं लेकिन नाखून कटाना स्वास्थ्य के लिये भी सही है।

  6. सतीश Says:

    यह गाना हमेशा ही से अच्छा लगता रहा है, और अच्छा लगता रहेगा।

  7. web design brisbane Says:

    Nice iphone.I love it.thanks. :lol:

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।