< Browse > Home / Archive: June 2008

| Mobile | RSS

फिल्म समीक्षाः धर्म

This summer do yourself a favour and watch this film Dharm. वैसे तो 2007 में रीलिज हुई इस फिल्म की समीक्षा का अब उतना कोई औचित्य नही है लेकिन फिर भी अच्छे सिनेमा के लिये तारीफ के दरवाजे कभी भी खोले जा सकते हैं। फिल्म धर्म का निर्देशन किया है भावना तलवार ने जो उनकी [...]

[ More ] June 29th, 2008 | 4 Comments | Posted in फिल्म समीक्षा |

या तो नाखुन रख लो या iPhone

आज का गीत में बालिका बधु का एक बहुत ही प्यारा गीत सुनाने से पहले थोडा बात करते हैं नाखुनों और iPhone की। आप सोच रहे होंगे भला इन दोनों चीजों में कैसा कनेक्शन, कनेक्शन नही है तभी तो रोना है। अब तक सभी जान गये होंगे कि iPhone जो है वो टच स्क्रीन से [...]

[ More ] June 26th, 2008 | 7 Comments | Posted in जरा हट के, तकनीकी |

चल मेरे साथ ही चल, ऐ मेरी जाने गजल

कबाड़खाने के अशोक दाज्यू ने जब हुसैन भाईयों को सुनाया तो हमारा खोया प्यार जैसे हमें दोबारा मिल गया। इससे पहले आप इधर-उधर की सोचें हम बता दें कि हम संगीत की बात कर रहे हैं। इसलिये आज उन्हीं के पहले ऐलबम की एक खुबसूरत गजल “चल मेरे साथ ही चल, ऐ मेरी जाने गजल” [...]

[ More ] June 25th, 2008 | 10 Comments | Posted in गीत संगीत |

Teen Pregnancy: इस फर्क का मतलब समाज की रजामंदी नही

मैने पिछली पोस्ट में बताया था कि यहाँ अमेरिका के एक शहर में हाईस्कूल में पढ़ने वाली १६ से १७ साल के बीच की १७ लड़कियों ने आपस में करार किया कि एक साथ Pregnant होते हैं और अब वो १७ लड़कियाँ Pregnant भी हो गयी है। इस घटना ने यहाँ एक नही बहस को [...]

सोच रहा हूँ इन्हे अबला कहूँ या सबला या बेवकूफों का पागलपन

हाईस्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों की क्या उम्र हो सकती है १५-१६ या १७? क्या इस उम्र तक आते आते अक्ल आ जाती है, शायद हाँ, शायद ना। लग रहा हूँ ना कन्फ्यूज क्या करूँ जहाँ एक और भारत ये पेक्ट कराने के पीछे पढ़ा है कि हर कोई देश ये कहे कि वो पहले [...]

समीर यानि ठंडी हवा का झोंका

आपने ये तो पढ़ा सुना होगा कि हर सफल व्यक्ति के पीछे किसी ना किसी स्त्री (या महिला) का हाथ होता है और अगर ये बात बिल्कुल सही है तो गौर करने लायक बात ये है कि अंबानी बंधुओं की सफलता के पीछे कितनी ज्यादा महिलाओं का हाथ होगा। अब इसका तो हम कुछ ठीक [...]

[ More ] June 21st, 2008 | 7 Comments | Posted in खालीपीली |

पुरानी जींस और गिटार

एक खुबसूरत मोहतरमा को उनकी खुबसूरत तस्वीर में जब जींस पहने और हाथ में गिटार लिये देखा तो हमें भी अपनी वो जींस याद आ गयी जो लेने के बाद हमने कभी नही पहनी और वो वैसे ही रखे रखे पुरानी हो गयी। साथ में याद आया वो गिटार जो लिया तो हमने अपने सीखने [...]

[ More ] June 19th, 2008 | 12 Comments | Posted in गीत संगीत |

IPL T20 यानि क्रिकेट का Item Song

वैसे तो IPL खत्म भी हो गया है और कमाने वालों का पैसा अभी हजम होना चालू है, और अभी तक इस विषय में काफी कुछ लिखा और पढ़ा जा चुका होगा। लेकिन जब सास-बहू, शादी-बरबादी, वो ही घर वो ही कहानी टाईप कहानियों पर बने सीरियल बार बार देखे जा सकते हैं तो हमने [...]