< Browse > Home / देश दुनिया / Blog article: सिन्दूर और बिंदी दोनों से तौबा

| Mobile | RSS

सिन्दूर और बिंदी दोनों से तौबा

March 5th, 2008 | 11 Comments | Posted in देश दुनिया

भारतीय नारियों के सुहाग, सौन्दर्य और फैशन के इन दोनों प्रतीक का अस्तित्व यहाँ अमेरिका में खतरे में है। सिन्दूर बैन करने के बाद अब नंबर आया है बिन्दी का। बिन्दी ने आजकल अमेरिका के फूड एंड ड्रग विभाग की नींद खराब कर रखी है। इसकी वजह है सिन्दूर और बिन्दी दोनों में खतरनाक माने जाने वाले Lead (सीसा, पारा) और रसायनों की अच्छी खासी मात्रा का पाया जाना।

FDA का मानना है कि इन रसायनों के संपर्क से बहुत सारे खतरनाक साइड एफैक्टस हो सकते हैं,

And if medical experts are to be believed, exposure to these chemicals can create dangerous biological effects. “The internal effects of lead are more dangerous like side effects on the central nervous system, kidney and heart,” dermatologist Dr Mukesh Girdhar explained.

तारीफ की बात ये है कि सिन्दूर और बिंदी ये दोनों प्रोडक्ट अपने भारत में धड़ल्ले से बगैर किसी चैक और रोकटोक के बिकते हैं। सालों से भारतीय नारियां इन्हें लगाते आ रही हैं जाहिर सी बात है वहाँ भी इन सिन्दूर और बिंदियों में ये रसायनिक पाये जाते होंगे लेकिन ऐसी कोई खबर कभी सुनने में नही आयी। और अगर डाक्टरों की माने तो बिंदी लगाने से त्वचा में अगर हल्की सी भी जलन होती है तो इसे यूज नही करना चाहिये। इस खबर को विस्तार से यहाँ पढ़ सकते हैं।

अब अपना भारत है तो जुगाड़ों का देश, और चाहे Lead हो या ना हो शायद भारतीय नारियां बिंदी लगाना छोड़ना नही चाहती इसलिये उन्होंने बैन लगाने लगाने से पहले ही उसका तोड़ ढूँढ लिया है।अगर आप भी ये तोड़ जानना चाहते हैं तो ये विडियो देखिये।


(इस तोड़ का पता मुझे पहले चला और बिंदी के बैन की खबर बाद में)

Leave a Reply 2,677 views |
Follow Discussion

11 Responses to “सिन्दूर और बिंदी दोनों से तौबा”

  1. समीर लाल Says:

    यह विज्ञापन देखा था..गजब की क्रियेटिविटी है भाई. :)

  2. सुजाता Says:

    गज्जब की चीज़ दिखाई आपने । शुक्रिया ! अब तो लगता है इसे बैन ही कर देना चाहिये । पर ये बैन अगर महिलाओ का सेल्फ इम्पोज़्ड हो तो ज़्यादा अच्छा है न!

  3. जूली झा Says:

    आपकी जानकारी की तरह विज्ञापन भी बहुत उम्दा है।

  4. mamta Says:

    विज्ञापन तो देखा था पर उसकी अहमियत आपके लेख के साथ बढ़ गई।

  5. Sanjeet Tripathi Says:

    सही है!!

  6. ghughutibasuti Says:

    हाहाहाहा ! अमेरिकन कानून या अमेरिका हमारा क्या कर लेगा ? वह डाल डाल हम पात पात ।
    घुघूती बासूती

  7. उन्मुक्त Says:

    यदि सिन्दूर और बिन्दी अच्छी क्वालिटी की न हो तो उसके लगाने से कई साइड एफक्टस् होते हैं।

    सिन्दूर से कईयों को सर दर्द हो जाता है। इनमें से एक महिला मेरी मां थीं। इसीलिये वे कभी सिन्दूर नहीं लगाती थीं।

    बिन्दी के कारण कुछ महिलाओं के माथे में दाग आ जाते हैं। फिर उसे छिपाने के लिये कूछ और बड़ी बिन्दी। मैं कई ऐसी महिलाओं को जानता हूं।

  8. ज्ञान दत्त पाण्डेय Says:

    यह टॉक्सिक बिन्दी बैन ही हो तो अच्छा।

  9. sanjupahari Says:

    hmmm,,,,arey bhai ab govmnt band kare ya na kare aajkal to waise bhi bindi ka size chota hote hote ekdam na ke barabar hi ho gaya hai…arhi sindure ki baat 35 yrs tak aajkal kaam-kaaji mahilayein waise bhi nai lagati (office main ladko ko pata nai chalna chahiye na shadi-suda ka),,,,ab jo kuch looog lagana bhi chahte hain to ye marker ne nayee market pakad lee hai …. bhala hoo science ka,,,Hindustani naari ke abhimaan ki baat pe attack mara hai ,,,, abhi sindoor bike na bike,,per sindoor namka serial kaafi dhalladde se market meain chaap bana chuka hai…kya kahte hain apne IITB ke dost dekein jara…http://www.youtube.com/watch?v=xtzk4duxtDY

  10. amit Says:

    वाह-२, क्या दिमाग लगाया है विज्ञापन बनाने में। :)

  11. pankajagarwal-12-8-2008 Says:

    marker ka add ekdum dhasu tha

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।