< Browse > Home / क्रिकेट, क्रिकेट और खेल, खेल खिलाड़ी / Blog article: खेल प्रेम मॉय फुट

| Mobile | RSS

खेल प्रेम मॉय फुट

आजकल अचानक बड़े बड़े व्यापारियों के अंदर खेल प्रेम जा चुका है कोई मुम्बई की टीम खरीद रहा है, कोई कलकत्ता की। कभी कही देखा था लोग मुर्गे लड़वाते थे और उन पर दाँव लगाते थे, आज जमाना बदल चुका है। समस्या इस बात पर नही है कि व्यापारी पैसा लगा रहे हैं, दुख इस बात का है कि बंदूक खेल प्रेम के कंधे में रख कर चलायी जा रही है।

यहाँ देखिये स्पोर्टस का पेज है, फुटबाल दिखेगा, क्रिकेट दिखेगा, टेनिस दिखेगा और फिर अदर्स में क्रिकेट दिखेगा

ये देश के राष्ट्रीय खेल (चक दे भी चकमा दे गया, लिंक पर क्लिक करके देखिये आस्ट्रेलिया से लौट कर कितने आलीशान कमरों में महिला हाकी टीम रही) के लिये क्यों नही किसी का खेल प्रेम जागता। अब जागेगा भी कैसे जगाने वाला तो पैसा है और वहाँ फाके की नौबत है जगाने के लिये पैसा कहाँ से आयेगा। क्रिकेट में तो इंडिया अक्सर जीत जाया करता है, ये सब लीग हॉकी और सॉकर (फुटबाल) के खेलों के लिये बनानी चाहिये थी। वहाँ ज्यादा सुधार, मेहनत और अच्छी सुविधाओं की जरूरत है।

खैर जिनके पास पैसा है उनका खेल प्रेम तो जाग गया, रह गये हम जैसे। हम तो यही कह सकते हैं खेल प्रेम मॉय फुट यानि कि न्यूयार्क के भीमकाय विरूद्ध नये इंगलैंड के देशभक्त

Leave a Reply 1,919 views |
Follow Discussion

6 Responses to “खेल प्रेम मॉय फुट”

  1. Gyan Dutt Pandey Says:

    सही है जी – खेल प्रेम, माई फुट। और पैसा प्रेम – माई फ्रंट फुट।

  2. अभय तिवारी Says:

    वैसे खेल का कोई नुक़्सान भी न होगा इस से तरुण जी!

  3. Sanjeet Tripathi Says:

    बिन पैसा सब सून रे भाया। पईसा है तो सब है न;)

  4. Manish Says:

    गुरू – अभी तो कलंदर आए हैं – खेल तो शुरू भी नहीं हुआ -

  5. Tarun Says:

    @अभयजी बात सही है, खेल का नुकसान नही होगा लेकिन क्रिकेट के खेल का। और इस खेल का तो वैसे भी कुछ नुकसान नही हो रहा था, लेकिन जो बाकि खेल हैं उनका तो शर्तिया नुकसान होना है।

    @ज्ञान जी, @संजीत, पैसे के लिये आप सही कह रहे हैं

  6. Tarun Says:

    @मनीश, अच्छा लगा आपका कमेंट पढ़कर और बात आप सही कह रहे हैं। अभी तो सिरएफ कलंदर आये हैं।

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।