< Browse > Home / खालीपीली / Blog article: …इसी के साथ टिप्पणियों का पहला सैकड़ा

| Mobile | RSS

…इसी के साथ टिप्पणियों का पहला सैकड़ा

May 26th, 2007 | 7 Comments | Posted in खालीपीली

आज बहुत दिनों बात चिट्ठाजगत में आना हुआ तो पाया कि अपने बबली तेरो मोबाइल पोस्ट में टिप्पणियों की संख्या 100 पार कर गयी है (इस पोस्ट के लिखे जाने तक 105 टिप्पणियां)। अपना ये पहला सैकड़ा है इसलिये सोचा चलो सबके साथ बांटा जाय।

इस सैकड़े की दूसरी विशेष बात ये है कि इन 105 टिप्पणियों में से चिट्ठाकारी करने वाले दो ही लोगों की टिप्पणियां हैं :( यानि कि बाकि के 103 टिप्पणीकार सर्च और किसी दूसरे स्रोत से आये होंगे :) । जब ये गीत पोस्ट किया था तब ना सोचा था और ना ही पता था कि ये गीत सुपरहिट होने वाला है। इसी के साथ इसने हमारी उस पोस्ट को भी सुपरहिट कर दिया, अब उन टिप्पणियों में जो कुछ भी लिखा हो लेकिन हर टिप्पणी पहाड़ियों के दिल में पहाड़ के लिये छुपे उनके प्यार को ही दर्शाती है।।

इस सैकड़े के उपलक्ष्य में हमने सोचा क्यों ना आज उस बबली, उसके मोबाइल और उसकी स्मायल सबके दर्शन करा दें। तो आपने अगर अभी तक नही किये, जाइये यहाँ जाकर आप भी बबली से मिल आइये।

Leave a Reply 12,091 views |
Follow Discussion

7 Responses to “…इसी के साथ टिप्पणियों का पहला सैकड़ा”

  1. समीर लाल Says:

    अभी जा रहे हैं तुरंत. डांटो तो मत… :)

  2. रवि Says:

    इस पर तो मैंने एक पोस्ट भी लिखी थी! – यानी बबली तेरो मोबाइल की टिप्पणियों से प्रेरणा लेकर! (तब 83 हो चुकी थी!)

  3. अभय तिवारी Says:

    हिन्दी ब्लॉग जगत के सचिन(पुराने वाले) को बहुत बहुत बधाई.. और मारें शतक ऐसी शुभकामना…

  4. Amit Says:

    वाह, सैकड़ा होने पर बधाई। पार्टी कब दे रहे हो तरूण भाई? ;)

  5. हिंदी ब्लॉगर Says:

    टिप्पणियों का शतक लगाना निश्चय ही हिंदी ब्लॉगिंग की दृष्टि से एक बहुत बड़ी उपलब्धि है. दो कारणों से ये उपलब्धि और भी बड़ी हो जाती है- एक तो आपके पोस्ट का विषय भड़काऊ नहीं था, और दूसरी बात ये कि लगभग सारी टिप्पणियाँ प्रशंसात्मक हैं. कृपया बधाई स्वीकार करें!

    आपके नंबर वन पोस्ट पर पहली टिप्पणी करने के लिए मैं भी गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ.

    इसी तरह आँचलिक गीतों का रसास्वादन कराते रहें.

  6. Divyabh Says:

    भाई,
    शतकीय प्रहार पर बधाई स्वीकार हो…
    कहने की आवश्यकता नहीं की अपने चिंतन को
    बनाए रखें और हम सब को आनंदित करते रहे।

  7. श्रीश शर्मा Says:

    वाह बधाई हिन्दी चिट्ठाजगत का पहला शतकवीर टिप्पणीप्राप्तकर्ता बनने पर। कमाल कर दिया बबली के मोबाइल ने।

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।