< Browse > Home / खालीपीली / Blog article: अलविदा हिंदी अलविदा ब्लोग

| Mobile | RSS

अलविदा हिंदी अलविदा ब्लोग

April 1st, 2007 | 5 Comments | Posted in खालीपीली

बहुत टाईम खोटी कर लिया इस लिखने पढने के चक्कर में, आज सोच लिया है कि बस अब और नही, और टाईम खोटी करने के लिये टाईम नही है।

यहाँ तक की लाईनें १ अप्रैल को ध्यान में रख कर लिखी गयी थीं। इसलिये हिंदी के इस ब्लोग को विदा कर ही लेते हैं, आज के बाद कंट्रोल पैनल अंग्रेजी में ही प्रकाशित होगा। नारद से कंट्रोल पैनल हो जायेगा गायब अगर आप में से कोई गैर हिंदी भाषा में इसे पढने का शौकीन हुआ तो हम यही कहेंगे कि या तो सब्सक्राइब कर ले या कुछ और उपाय।

अगले कुछ लेख गुगल और फायरफोक्स के हैक्स (tips & tricks) से सम्बंधित रहेंगे।

ये पिक्चर विडियो बनाने के बहुत बाद मिली

Guru

Leave a Reply 1,599 views |
  • No Related Post
Follow Discussion

5 Responses to “अलविदा हिंदी अलविदा ब्लोग”

  1. PRAMENDRA PRATAP SIN Says:

    कमाल है। मजा आ गया चैपल को चप्‍पल के साथ देख कर

  2. समीर लाल Says:

    ये फोटो भी मजेदार रहा. बाकि तो हम यह सोच कर आये थे कि आप जा रहे हो.. थोड़ा बिदाई भेंट हो जाये मगर .. :(

  3. सागर चन्द नाहर Says:

    जैसे चैपल के दिन सुधरे वैसे सभी के सुधरे। :) अच्छा चित्र है बुश का भी लगाते तो अच्छा लगता।

  4. Amit Says:

    वाह-२, चप्पल की सही जगह यही है। ऐसा ही होता है जब कोई फटीचर खां अख़बार में टुच्चे कॉलम लिखते-२ अपने को फन्ने खां समझ कोच बन जाता है।

  5. श्रीश शर्मा 'ई-पंडित' Says:

    काहे भईया हिन्दी में “नियंत्रण कक्ष” बंद क्यों कर दिया?

    खैर चैपल की बोत सही फोटू लाए। उससे कहे अब जूते बनाने में प्रयोग करे। :)

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।