< Browse > Home / खालीपीली, मस्‍ती-मजा, व्यंग्य / Blog article: पत्रकार-रिपोर्टर और ब्रैकिंग न्यूज

| Mobile | RSS

पत्रकार-रिपोर्टर और ब्रैकिंग न्यूज

आज ही अमित की ये वाली पोस्ट पढी और कुछ दिनों पहले स्वामी जी की ये वाली, और आज ही ब्रैक के दौरान आफिस में हमारे एक दोस्त ने पत्रकारों को लेकर ये बात बतायी तो सोचा लगे हाथ हम भी गंगा नहा लेते हैं।

एक पत्रकार (रिपोर्टर) महोदय थे बहुत ही खरा खरा लिखने और बोलने वाले, एक बार उनके अखबार (या न्यूज चैनल) की तरफ से उन्हें किसी विशेष कार्यक्रम को कवर करने भेजा गया। उस कार्यक्रम को कवर करने के लिये पहुँचे वो अकेले व्यक्ति थे। बदकिस्मती से किसी कारण की वजह से वो प्रोग्राम रद्द हो गया तो इन पत्रकार महोदय ने अपने आफिस को इसकी खबर देते हुए एक लाईन की न्यूज भेज दी कि अमुक अमुक वजह ये ये कार्यक्रम नही हो पाया। लेकिन बाकी के अखबारों और न्यूज चैनल में विस्तार के साथ उस आयोजन के सफल होने के बारे में बहुत कुछ लिखा और कहा गया। अगले दिन आफिस पहुँचते ही हमारे उन खरे खरे लिखने और कहने वाले पत्रकार महोदय को उनके बॉस ने अपने कैबिन में बुलाकर खूब लताड लगायी और उन पर ये इल्जाम लगाते हुए कि वो उस शहर में उस कार्यक्रम को कवर करने गये ही नही, जॉब से निकाल दिया।

अब हमारे पत्रकार अभी घर भी नही पहुँच पाये थे कि सब जगह ब्रैकिंग न्यूज थी कि अमुक पत्रकार ने अपनी नौकरी को लात मार खूद का न्यूज चैनल शुरू करने का बिगुल बजाया। बेचारे का दिन ही खराब था घर पहुँचते ही पत्नी अलग से पिल पडी, क्यों जी तुम खुद का न्यूज चैनल शुरू करने जा रहे हो और मैं कितने दिन से कह रही हूँ कि मेरे को दो-चार अच्छी से ड्रैस दिला दो तुम हर बार टाल जाते हो।

ऊपर वाला अंतिम पैराग्राफ हमने अपने मन से जोडा है, आखिर खुद का भी तो कोई टच होना चाहिये ना ;)

Leave a Reply 2,357 views |
Follow Discussion

6 Responses to “पत्रकार-रिपोर्टर और ब्रैकिंग न्यूज”

  1. आशीष Says:

    हमे तो निचे वाला पैरा ज्यादा पसंद आया !

  2. Amit Says:

    वाह वाह, ऐसा हरेक पत्रकार नामक जन्तु के साथ होना चाहिए!! जैसे को तैसा मिले तभी सुधरेंगे ये लोग!!

  3. समीर लाल Says:

    आखिरी पैरा पढ़कर तो लगा कि आप भी अपनी चैनल क्यूँ नहीं शुरु कर लेते भाई!! न्यूज तो अच्छी गढ़ लेते हो.. :)

  4. masijeevi Says:

    अब जब चिट्ठाकारी में इतने पत्रकार आ गए हैं तो जब आप पत्रकार लिखें तो उसके साथ लिंक देकर अविनाश, रवीश, भूपेन….का ब्‍लॉग जोड़ा करें। सिर्फ गलियाना ठीक नहीं, थौड़ी दुकानदारी भी कराओ

  5. Tarun Says:

    जब आप पत्रकार लिखें तो उसके साथ लिंक देकर अविनाश, रवीश, भूपेन….का ब्‍लॉग जोड़ा करें।

    मसीजिवी जी, इनमें से कोई अगर जल्दी ही अपना न्यूज चैनल शुरू करने वाला है तो बतायें, अभी झट से उनका लिंक लगाये देता हूँ ;)

Trackbacks

  1. Global Voices Online » Blog Archive » Hindi Blogosphere: Hi-tech Blogger Meet and Match Making over Blogs!  

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।