< Browse > Home / बस यूँ ही / Blog article: जीना मरना साथ

| Mobile | RSS

जीना मरना साथ

February 7th, 2007 | 5 Comments | Posted in बस यूँ ही

याद है ये गीत, जीना मरना साथ तेरा मेरा जुदा होना मुश्किल है। इस गीत के बोलों को सही मायेने में संभव करके दिखाया इटली में मिले आलिंगन बद्ध जोडे के नर कंकालों के अवशेषों ने। ये अपनी तरह का पहला केस होगा शायद, अभी कहा तो यही जा रहा है कि ये पुरूष और महिला होंगे लेकिन इसकी पुष्टि करनी अभी बाकी है। आप ये खबर यहाँ पढ सकते हैं

Leave a Reply 1,851 views |
Follow Discussion

5 Responses to “जीना मरना साथ”

  1. श्रीश शर्मा 'ई-पंडित' Says:

    वाह, सच्चा प्यार इसे कहते हैं। अगर यह किस्सा भारत में हुआ होता तो इस पर फिल्म बन जाती – एक दूसरे के लिए।

  2. समीर लाल Says:

    अब क्या कहें!!!

    ईश्वर इनको अगले जनम में भी साथ प्रदान करे!

  3. संजय बेंगाणी Says:

    आज अखबार में तस्वीर देखी. वैसे जोड़ा एक ही था. दो नहीं. :)

  4. Divyabh Says:

    हड़प्पा स्थल से भी ऐसे ही नर-कंकाल मिले हैं…जिसमें स्त्री-पुरुष को साथ दफनाया गया था…!

  5. Tarun Says:

    संजय आप सही हो, पहले दो लोगों लिखा था और बाद जोडे लिखने के बाद दो हटाना रह गया :)

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।