< Browse > Home / लिटिल ड्रैगन / Blog article: यस्टरडे आफॅ 29 मार्च

| Mobile | RSS

यस्टरडे आफॅ 29 मार्च

January 17th, 2007 | 6 Comments | Posted in लिटिल ड्रैगन

अब तक हम बहुत सारी बातें यूँ हीं जाया कर चुके हैं, लेकिन इस बार हमने सोच ही लिया कि अपने लिटिल ड्रैगन की बातों को अपनी पोस्ट में जगह देनी ही है। आखिर बच्चों की निठल्ली बातें निठल्ला चिंतन में नही होंगी तो कहाँ होंगी।

कुछ महीनों पहिले हमने अपने साहेबजादे को समझाया था कि टूडे से एक दिन बाद को टुमोरो और एक दिन पहले को यस्टरडे कहते हैं, दो चार उदाहरण भी दिये, बच्चा जब समझ गया तो बात आयी गयी हो गयी। लेकिन अभी कुछ दिनों पहले अपने नटखट ने मुझसे पूछा, “पापा वैह्न आइ एम गोइंग टू बी 5 एंड हॉफ ईयर ओल्ड” (पापा, मैं साढ‌े पांच साल का कब होंऊगा)। हमने बडी सहजता से बता दिया कि तुम 29 मार्च को साढे पांच साल के होओगे, ये सुनकर अपना बेटा बोला, “डू यू नो (know), यस्टरडे आफॅ 29th मार्च रिगो इज गोइंग टू बी 5 एंड हॉफ”। हमारे साहेबजादे के कहने का मतलब था कि 29 मार्च से एक दिन पहले उसके क्लास का कोई दोस्त साढे पांच साल का होने वाला है, जिसका जन्मदिन अपने लिटिल ड्रैगन से एक दिन पहले पडता है। ये सुनकर हम अपने बेटे की बात पे मुस्कुराये बिना ना रह सके।

(आजकल थोडा व्यस्त चल रहा है, लेकिन ये बात याद आयी तो तुरंत ही लिख डाली। ऐसी ना जाने कितनी बातें थी कहने को लगभग भूल ही गये अब)

Leave a Reply 1,978 views |
Follow Discussion

6 Responses to “यस्टरडे आफॅ 29 मार्च”

  1. Divyabh Says:

    hi Tarun,
    बड़ी सहजता से बातों को लिख देते है…
    बचपन की सरलता का बोध इस अनमने
    वक्त मे ना हो तो जिंदगी बोझिल हो जाये…
    इंतजार होगा व्यंगात्मक वही पुराना…
    निट्ठला चिंतन का…धन्यवाद

  2. समीर लाल Says:

    बाल्यमन की सरलता पर कौन न मुस्करा देगा. और भी सुनाईयेगा.

    :)

  3. आशीष Says:

    तरुण भाई,
    बहुत बडी गलती कर चुके है आप

    अब तक हम बहुत सारी बातें यूँ हीं जाया कर चुके हैं,

    भैये, अब ऐसे ही लिटील ड्रैगन उवाच छापते रहीये !

  4. श्रीश शर्मा 'ई-पंडित' Says:

    बहुत प्यारा लिटिल ड्रैगन लगता है।

  5. प्रेमलता Says:

    सच्चा हास्य!!! बहुत खूब।

  6. अनुराग Says:

    :)

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।