< Browse > Home / ज्ञान विज्ञान / Blog article: फायरफोक्स के लियेः नारद और पहाडी शब्दकोश सर्च प्लगिन

| Mobile | RSS

फायरफोक्स के लियेः नारद और पहाडी शब्दकोश सर्च प्लगिन

December 18th, 2006 | 3 Comments | Posted in ज्ञान विज्ञान

इस पोस्ट के साथ निठल्ला चिंतन में भी कुछ ज्ञान विज्ञान की बातों का सिलसिला शुरू हो गया है। खाली वक्त का थोडा सदुपयोग करते हुए मैने ये सर्ड के ये दो प्लगिन बनाये, एक अपनी नयी साईट पहाडी शब्दकोश के सर्च के लिये और दूसरा अपने नारद के लिये। ये सिर्फ फायरफोक्स और नेटस्केप पर ही काम करते हैं, इंस्टॉल होने पर ये ब्राउजर के टूलबॉक्स में अन्य दूसरे सर्च प्लगिन के साथ जुड जाते हैं।

जैसे पहाडी शब्दकोश का ये सर्च प्लगिन इंस्टॉल करने के लिये यहाँ पर क्लिक कीजिये, क्लिक तभी कीजिये जब आप इस पोस्ट को फायरफोक्स में पढ रहे हो अन्यथा ये काम नही करेगा।। क्लिक करने पर आपको ये मैसेज बॉक्स दिखायी देगा, ऐड के बटन पर क्लिक कीजिये और प्लगिन इंस्टॉल। इसे उपयोग में लाने के लिये दाहिनी तरफ बने सर्च के ड्राप डाऊन में पहाडी शब्दकोश सलेक्ट कीजिये और शुरू हो जाईये (मदर, ब्रदर अंग्रेजी में टाईप करके देखिये, अभी पहाडी शब्दकोश यूनिकोड सपोर्ट नही करता)।

इसी तरह आप नारद का भी सर्च प्लगिन इंस्टॉल कर सकते हैं। नारद सर्च के लिये यहाँ क्लिक कीजिये मैसेज बॉक्स आने पर ऐड पर क्लिक कीजिये और फिर सर्च के ड्राप डाऊन पर नारद को सलेक्ट कीजिये।

अगली पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कि आप इस तरह के प्लगिन कितनी आसानी से बना सकते हैं। और चलते चलते अगर आप इन्हें हटाना चाहते हैं तो सर्च के ड्राप डाऊन के आखिर पर ‘मैनेज सर्च इंजन’ पर क्लिक कीजिये और जिसे हटाना चाहते हैं उसे सलेक्ट करके के रिमूव पर क्लिक कीजिये, प्लगिन आपके ब्राउजर से हट जायेगा।

Leave a Reply 2,002 views |
Follow Discussion

3 Responses to “फायरफोक्स के लियेः नारद और पहाडी शब्दकोश सर्च प्लगिन”

  1. संजय बेंगाणी Says:

    समय का सदउपयोग.

  2. Tarun Says:

    संजय, मेरे ख्याल से सदुपयोग भी होता है, इसका संधि विच्छेद बनता है सद+उपयोग, कोई और भी प्रकाश डाले।

  3. Jitu Says:

    बहुत सही, तरुण भाई, अच्छा काम हुआ। नारद की सर्च से सम्बंधित प्लग-इन के लिए एक छोटा सा अलग से लेख (लिंक सहित) लिखकर भेज दो, नारद पर लगा देते है।

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर नयी पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों ही खुला रहता है। पुरानी पोस्टस में आने वाले स्पॉम टिप्पणियों के मद्देनजर यह निर्णय लेना पड़ा, असुविधा के लिये खेद है। आप को अगर ये ब्लोग और इसमें लिखी पोस्ट पसंद आती हैं तो आप इसे सब्सक्राइब करके भी पढ़ सकते हैं, धन्यवाद।