< Browse > Home /

| Mobile | RSS

किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार

अभी अभी राजकपूर की आवाज यानि मुकेश साहेब की वर्षगाँठ निकली है और जिस तरह से मैंने अनजाने ही सही उनको गीत गाता चल में भूला सा दिया वैसे ही समय की कमी के चलते वर्षगाँठ में भी उनके गाये किसी गीत का जिक्र तक नही किया। आज जब थोड़ा वक्त मिला तो सोचा मुकेश [...]

[ More ] August 31st, 2010 | 4 Comments | Posted in Golden Melody, Happy Go Lucky |

सूरज जरा, आ पास आ, आज सपनों की रोटी पकायेंगे हम

संगीत किसी भी गीत की मधुरता के लिये चार चाँद लगाने का काम करता है, किसी भी गीत के कर्णप्रिय या मधुर होने का ज्यादातर श्रेय या तो संगीतकार को चला जाता है या इसके गाने वाले को। उस गीत को लिखने वाले का नाम बहुत कम ही लिया या याद किया जाता है। आज [...]

[ More ] January 16th, 2010 | Comments Off | Posted in Filmy, Situational |

दिल विल ६: धानी चुनरी पहन सज के बन के दुल्हन

अभी तक मैं ६ विवाह के प्रकार बता चुका हूँ, आज बाकि बचे हुए दो विवाहों के बारे में बताता हूँ। ये दोनों प्रकार के विवाह समाज में अपराध के रूप में आते हैं। राक्षसा विवाह (Rakshasa Marriage), ये बल-पूर्वक किया गया विवाह होता था, इसमें लड़की को उसके घर से बल पूर्वक उठा ले [...]

[ More ] February 7th, 2009 | 6 Comments | Posted in For Your Valentine, Romantic |