< Browse > Home /

| Mobile | RSS

राखीः मेरे भैय्या मेरे चंदा, फूलों का तारों का सबका कहना है

आज राखी है यानि रक्षा बंधन यानि भाई-बहन का पर्व, अन्य त्यौहारों की तरह हिंदी फिल्मों में राखी पर भी काफी गीत लिखे गये हैं। इन गीतों में भाई और बहिन के प्यार को, एक दूसरे के लिये इनकी भावनाओं को बड़ी सुन्दरता से दिखाया गया है। इनमें से कुछ गीत स्पेशियली राखी के ऊपर [...]

[ More ] August 24th, 2010 | 5 Comments | Posted in Golden Melody, Situational |

आँखों पर एक चर्चा: आँखों पर लिखे कुछ बेहतरीन हिंदी फिल्मी गीत – भाग १

मैंने पिछले एक पोल में पूछा था कि शरीर के किस अंग की तारीफ में लिखे गीत ज्यादा पसंद हैं और उसमें नंबर एक पसंद थी “आँखें (Eyes)“। आज से आगे की कुछ पोस्ट तक उन गीतों की बात करेंगे जो आँखों के ऊपर लिखे गये हैं या जिन गीतों में आँखों का जिक्र आता [...]

[ More ] July 23rd, 2010 | 3 Comments | Posted in Ek Shabd Sau Afsaane |

वैलेंटाईन डे स्पेशियलः लव स्टोरी के लव में ट्विस्ट

एक बार फिर वही दिन, कहाँ से दिन शुरू हुआ कहाँ कहाँ फैल गया। आज के दिन कोई गुलाबी गुलाबी होकर घूमे तो कोई मुँह काला करके, विरोध का रंग काला ही होता है ना। युवाओं में बड़ा जोश होता है वैलेंटाईन डे मनाने का, वैसे ही जैसे अधजल गगरी की कहानी, अरे वो ही [...]

[ More ] February 14th, 2010 | 1 Comment | Posted in For Your Valentine, Romantic, Situational |

सुनिये मन्ना डे और लता मंगेशकर का गाया गीत “शाम ढले जमुना किनारे”

जब मैं दिल्ली में था तब इस गीत को बहुत सुनता था, इस गीत को मन्ना दा ने इतनी मधुरता से गाया है कि बस सुनते जाओ और रिप्ले करते जाओ। राग खमाज (Khamaj) पर बेस्ड ये गीत है फिल्म पुष्पांजली से जो 1970 में रीलिज हुई थी। संगीत दिया था लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने, आवाज [...]

[ More ] April 3rd, 2009 | 11 Comments | Posted in Filmy, Raag Khamaj, Raaga Based Songs |

दिल विल ७: झिलमिल सितारों का आँगन होगा और एक तेरा साथ हमको

आज के ये दोनों गीत स्पेशल हैं, वजह? वजह थोड़ा खास है क्योंकि ये किसी को समर्पित हैं। प्यार से शुरू हुआ दिल विल का सफर विवाह तक पहुँचा। विवाह के बाद दो जिस्म एक जान हो जाते हैं, नये-नये ख्वाब सजाये जाते हैं। एक दूसरे के दुख दर्द और खुशी में हर पल साथ [...]

[ More ] February 10th, 2009 | 6 Comments | Posted in For Your Valentine, Romantic |

अभी तो हाथ में जाम है

जरा याद करो १९७२ में आयी फिल्म सीता और गीता, फिर याद करो शराब की बोतल हाथ में लिये लड़खड़ाता हुआ धर्मेन्द्र। क्या याद आया? मन्ना डे का गाया हुआ यही गीत ना। मुझे इस फिल्म का ये गीत सबसे ज्यादा पसंद है, इसे बहुत बार सुना है, फिर भी अभी तक मन नही भरा, [...]

[ More ] October 23rd, 2008 | 6 Comments | Posted in Drunkard (sharabi) |