< Browse > Home

| Mobile | RSS

दिल विल प्यार व्यार – कुछ बातें कुछ गीत (एपिसोड १)

[प्यार एक ऐसा एहसास है जिसे जिंदगी के किसी ना किसी मुकाम में हर कोई महसूस करता है। उम्र के साथ साथ इसके मायने भले ही बदलते जाते हो लेकिन प्यार एक एहसास बन हमारे अंदर कहीं ना कहीं रहता ही है। फरवरी यानि बसंत का महीना, उमंग का महीना, वैलेंटाईन का महीना यानि प्यार [...]

[ More ] February 1st, 2009 | 10 Comments | Posted in For Your Valentine, Romantic |

वंदे मातरम, वंदे मातरम

देशभक्ति के गीतों की त्रिवेणी का अंतिम गीत है वंदे मातरम् जो भारत का राष्ट्रीय गान है। इसे बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय ने बंगाली व संस्कृत मिश्रित भाषा मे लिखा था। बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय ने वन्दे मातरम् गीत के पहले दो पद्य 1876 में संस्कृत में लिखे। इन दोनो पद्य में केवल मातृ-भूमि की वन्दना है। उन्होंने 1882 [...]

[ More ] January 26th, 2009 | 6 Comments | Posted in Patriotic Songs |

ऐ मेरे वतन के लोगों, तुम खूब लगा लो नारा

लता मंगेशकर का गाया ये गीत किसी परिचय का मोहताज नही है, शायद ही ऐसा कोई दिन गया होगा जब शहीदों और देशभक्ति से संबन्धित बातें हुई हों और इस गीत का जिक्र ना आया हो। दिल को बहुत ही भावुक कर देना वाला ये गीत कवि प्रदीप ने लिखा था जिसे सी. रामचंद्र ने [...]

[ More ] January 25th, 2009 | 5 Comments | Posted in Patriotic Songs, kavi pradeep |

ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन, तुझ पे दिल कुर्बान

मौका भी है दस्तूर भी, गणतंत्र दिवस दूर नही इसलिये अगले तीन दिन तीन गीत देश और शहीदों के नाम। शुरूआत कर रहे हैं फिल्म काबुलीवाला के लिये मन्ना दा के गाये गीत ऐ मेरे प्यारे वतन से। काबुलीवाला कहानी रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखी थी और इसी पर बनी थी फिल्म काबुलीवाला, पहले बंगाली [...]

[ More ] January 24th, 2009 | 8 Comments | Posted in Patriotic Songs |

पत्थर से शीशा टकरा के वो कहते हैं दिल टूटे ना

“वक्त के सांचे में अपनी जिंदगी को ढाल कर, मुस्कुराओ मौत की आँखों में आँखें डालकर“, इन बेहतरीन लाईनों के साथ शुरू होता गीत “पत्थर से शीशा टकरा के” जिसे पहेली ८ में पहचानने को कहा गया था। ये खुबसूरत गीत है फिल्म सावन को आने दो से, राजश्री प्रोडक्शन की १९७९ में आयी इस [...]

[ More ] January 19th, 2009 | 9 Comments | Posted in Happy Go Lucky |

पहेली क्रमांक ८: इस गीत और गायक को पहचानिये

इस क्लिप में दिये कुछ शब्दों को सुनकर क्या आप बता सकते हैं ये गीत कौन सा है और इसे किस गायक ने गाया है? इस बार की पहेली थोड़ा सा मुश्किल पड़ सकती है, इसलिये क्लिप थोड़ा देर तक बजायी है, थोड़ी कोशिश करके देखिये। गीत पहेली क्लिप: [Audio clip: view full post to [...]

[ More ] January 15th, 2009 | 7 Comments | Posted in Geet Paheli (Music Quiz) |

वाह वाह रम्ज़ सजण दी होर……आबिदा परवीन

किसी गीत को ढंग से समझने के लिये उस भाषा का अच्छे ढंग से आना जरूरी है लेकिन किसी संगीत का लुत्फ उठाने के लिये ये जरूरी नही कि आपको सुर-ताल-राग सभी का ज्ञान हो और गायकी की मिठास तो ना चाहते हुए भी कानों में घुसकर मिस्री सा मजा देकर रहेगी। अभी जब मैं [...]

[ More ] January 12th, 2009 | 6 Comments | Posted in Sufi Poetry and Music |

श्यामल श्यामल बरण

मुझे लगा था पहेली कठिन होगी लेकिन जिसने भी बताया सही उत्तर बताया, वो गीत था श्यामल श्यामल बरन, कोमल कोमल चरन, फिल्म नवरंग से। गायक थे महेन्द्र कपूर, ये इनके शुरूआती दौर के गीतों में से था और मो रफी के इनफ्लुएंस की वजह से कुछ कुछ वैसा ही सुनायी भी देता था लेकिन [...]

[ More ] January 11th, 2009 | 7 Comments | Posted in Romantic |