< Browse > Home

| Mobile | RSS

माँ पर एक खुबसूरत गीतः उसको नही देखा हमने कभी

माँ पर लिखी कविताओं की चर्चा पढ़ते हुए माँ पर मजरूह सुल्तानपुरी का लिखा गीत “उसको नही देखा हमने कभी, पर इसकी जरूरत क्या होगी, ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी“, मुझे स्ट्राईक किया। जब मैं छोटा था तो ये गीत विविध भारती पर खूब बजता था। उस वक्त गीत [...]

[ More ] April 15th, 2009 | 16 Comments | Posted in Maa (mother) |

सुनिये मन्ना डे और लता मंगेशकर का गाया गीत “शाम ढले जमुना किनारे”

जब मैं दिल्ली में था तब इस गीत को बहुत सुनता था, इस गीत को मन्ना दा ने इतनी मधुरता से गाया है कि बस सुनते जाओ और रिप्ले करते जाओ। राग खमाज (Khamaj) पर बेस्ड ये गीत है फिल्म पुष्पांजली से जो 1970 में रीलिज हुई थी। संगीत दिया था लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने, आवाज [...]

[ More ] April 3rd, 2009 | 11 Comments | Posted in Filmy, Raag Khamaj, Raaga Based Songs |

शर्मा बंधुओं को सुनियेः जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को

जब मैं छोटा था तब दूरदर्शन में अक्सर एक भजन बजता (सुनता) हुआ दिखायी देता, भजन की कुछ समझ ना होने के बावजूद भी वो सुनने में बहुत मधुर लगता था। आज अचानक फिर से सुना तो मन को वैसा ही सुकून मिला जैसे तपती दोपहरी में छावँ में खड़े होने पर या पानी की [...]

[ More ] March 30th, 2009 | 11 Comments | Posted in Spiritual (Bhajan) |

सुनिये बालिका वधु का गीत: बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और…

मैं टीवी वाली बालिका बधु नही बल्कि फिल्म वाली की बात कर रहा हूँ। 1976 में तरूण मजुमदार निर्देशित एक बहुत खुबसूरत फिल्म रीलिज हुई थी नाम था बालिका बधु, आजादी की लड़ाई को बैकग्राउंड रख ये बाल विवाह पर बनी एक फिल्म थी। फिल्म में युवा नायक के रूप में थे सचिन और बालिक [...]

[ More ] March 26th, 2009 | 10 Comments | Posted in Filmy, Romantic |

चंदन दास की आवाज में सुनियेः मैंने मुँह को कफन में छुपा जब लिया

आप में से अगर किसी को दूरदर्शन के जमाने की याद हो तो ये भी याद होगा कि उसमें अक्सर गाहे-बगाहे एक शख्स की महफिल जमती थी या कह लीजिये उसके गीत और गजल बजते थे। जी हाँ, सही पहचाना मैं चंदन दास की बात कर रहा हूँ। गीतों के अंदाज में गायी उनकी गजलें [...]

[ More ] March 23rd, 2009 | 7 Comments | Posted in Gazals |

कुछ कमसुने और पुराने होली के गीत

फाग, फागुन, चोली, गोरी, राधा, नंदलाल, छैला, रंग, होली जैसे शब्द ही आजकल चारों तरफ फिजां में उमड़ घुमड़ रहे हैं। और इन्हीं शब्दों से भरे कुछ होली के गीतों को हम आप को सुना रहे हैं, ये वो गीत हैं जो सुनने में कम आते हैं। हो सकता है कुछ आपने सुने हों कुछ [...]

[ More ] March 9th, 2009 | 10 Comments | Posted in Holi Songs |

मिर्जा गालिब १: हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे

अगली कुछ पोस्टों की श्रृंखला में बात करेंगे मिर्जा गालिब की, उनकी लिखी कुछ गजलों की, और सुनेंगे कुछ गजलें। मिर्जा गालिब के ऊपर वैसे तो पहले ही बहुत कुछ लिखा और कहा जा चुका है लेकिन फिर भी अपनी तरफ से उन पर लिखने की कुछ गुस्ताखी तो हम भी कर ही सकते हैं। [...]

[ More ] February 28th, 2009 | 4 Comments | Posted in Gazals, Mirza Ghalib |

पहेली क्रमांक ९: क्या आप इस शख्स को पहचान सकते हैं?

३ मिनट की ये क्लिप सुनकर क्या आप बता सकते हैं कि आने वाली कुछ पोस्टों में हम किस का जिक्र करने जा रहे हैं? ये पहचान पाना कोई मुश्किल नही है, अगर आप जानते हैं ये क्लिप कहाँ से ली है तो समझ लीजिये आप उत्तर जानते हैं। चूँकि ये पहेली है इसलिये टिप्पणी [...]

[ More ] February 16th, 2009 | 5 Comments | Posted in Geet Paheli (Music Quiz) |