< Browse > Home / Filmy, New Songs, Romantic / Blog article: दिल क्यूँ ये मेरा कहे जिन्दगी दो पल की

| Mobile | RSS

दिल क्यूँ ये मेरा कहे जिन्दगी दो पल की

April 28th, 2010 | 1 Comment | Posted in Filmy, New Songs, Romantic

आप कभी पतंगों के पीछे भागे हैं, मेरा मतलब उन पतंगों से नही जो दिये की लौ की तरफ भागते हैं बल्कि काईट से है यानि पतंगबाजी वाली पतंग। अगर कभी आपने पतंग उड़ायी हो तो मालूम ही होगा शुरू शुरू में अक्सर जैसे ही वो थोड़ा ऊँचा जाती थी तो कोई दूसरा अपनी पतंग लाकर उसे काट देता था। और फिर शुरू होती थी दौड़ उस पतंग के पीछे फिर से उसे पाने की।

जिंदगी भी उसी पतंग की तरह है, किसी किसी की उड़ती रहती है देर तक, ऊँची ऊँची और ऊँची और किसी की बस दो पल के लिये उतरते ही कट जाती है। मैं भी ना, यहाँ बात करने आया था काईटस द मूवी की और बातें करने लगा कुछ और।

काईटस का नया नया एलबम सुना, दो गीत खासकर पसंद आये, दोनों ही गीत केके ने बहुत ही बेहतरीन तरीके से गाये हैं। कम से कम मेरे कानों को तो ऐसा ही महसूस हुआ, गीत थोड़े स्लो हैं इसलिये जरूरी नही सभी को मधुर लगें। एक गीत है दिल क्यूँ ये मेरा और दूसरा है जिंदगी दो पल की, राकेश रोशन की हर मूवी की तरह इसमें भी संगीत राजेश रोशन ने ही दिया है। ये दोनों गीत नसीर फराज ने लिखे हैं और दोनों ही गीत अच्छे हैं।

इस फिल्म के ट्रैलर, रोमांस और रोमाँच भरी कहानी और राकेश रोशन के बैनर को देख, फिल्म को थियेटर में देखना तय है। फिल्म २१ मई को रीलिज हो रही है। अब इन दोनों गीतों को जरा सुन भी लेते हैं, पुराने गीतों से यू-टर्न लेकर कभी नये गीत सुनना टेस्ट मैच के बीच में ट्वेंटी ट्वेंटी सा मजा देता है

जिंदगी दो पल की (Zindagi Do Pal Ki)

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

दिल क्यूँ ये मेरा (Dil Kyun Yeh Mera)

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

Leave a Reply 2,695 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

One Response to “दिल क्यूँ ये मेरा कहे जिन्दगी दो पल की”

  1. संजय भास्कर Says:

    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।