< Browse > Home / For Your Valentine, Romantic, Situational / Blog article: वैलेंटाईन डे स्पेशियलः लव स्टोरी के लव में ट्विस्ट

| Mobile | RSS

वैलेंटाईन डे स्पेशियलः लव स्टोरी के लव में ट्विस्ट

February 14th, 2010 | 1 Comment | Posted in For Your Valentine, Romantic, Situational

एक बार फिर वही दिन, कहाँ से दिन शुरू हुआ कहाँ कहाँ फैल गया। आज के दिन कोई गुलाबी गुलाबी होकर घूमे तो कोई मुँह काला करके, विरोध का रंग काला ही होता है ना।

युवाओं में बड़ा जोश होता है वैलेंटाईन डे मनाने का, वैसे ही जैसे अधजल गगरी की कहानी, अरे वो ही अधजल गगरी जो छलकत जाये और छलकता पानी देखकर ही पता चलता है गगरी में पानी है। बस वैंलेंटाईन डे के दिन अधपका प्यार टपकता जाये और टपकता प्यार देखकर जिनके पास कुछ नही अफसोस करने लगते हैं। लेकिन कहानी इतनी सीधी भी नही होती।

नये प्यार के जोश में ये हाल होता है कि खुली आँखों से सपने देखे जाते हैं, खुले आसमान के तले बगिया के बीचों बीचों खड़े होकर पूरा घर बना दिया जाता है। माथे की बिंदिया की चमक बिजली की रोशनी देती है और लड़ाई के लिये कोई जगह नही होती क्योंकि उसकी वजह ही समझ नही आती। यकीन नही आ रहा, तो खुद सुनकर देख लीजिये -

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

लेकिन प्यार की ये जोड़ी जब शादी की चाशनी (उस वक्त ये ही समझा जाता है) में नहाकर निकलती है तो आ जाता है लव में ट्विस्ट। बच्चों की इंट्री इस ट्विस्ट को कई बार और उलझा देती है, खुली आँखें तो छोड़िये बंद आँखों से भी सपने दिखने बंद हो जाते हैं। लड़की परेशान कि ये वो ही मानुस है जो वैलेंटाईन के कार्ड लाकर देता था, और लड़का, वो नींद में आजादी आजादी बड़बड़ाने लगता है। लिटमस टेस्ट से गुजर रहे प्यार को पता ही नही चलता कब वैलेंटाईन डे आता है और कब चला जाता है। अगर आपकी बात समझ नही आ रही तो खुद इन साहेब को सुन लीजिये जो कुछ सालों पहले तक “फूलों के शहर में घर होने का सपना” देख रहे थे -

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

राम के भरोसे ना छोड़कर जो अपनी प्रेम की नैया के खुद खवैया बनते हैं उनकी नैया बच्चों के बड़े होते ही संभलने लगती है और बच्चों के घर से निकलते ही अघजल गगरी भी पूरी भर जाती। प्यार बढ़ जाता है लेकिन कभी छलकता हुआ नही दिखता। एक दूसरे का साथ प्यारा लगने लगता है, बिनकहे ही बातें समझ में आने लगती हैं और समझ में आता है वैलेंटाईन का असली मतलब, फिर दोनों सिर्फ एक ही सुर में गाते हैं – ‘हम बने तुम बने एक दूजे के लिये, व्ही आर मेड फॉर ईच अदर समझे“।

हैप्पी वैलेंटाईन डे।

Leave a Reply 2,228 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

One Response to “वैलेंटाईन डे स्पेशियलः लव स्टोरी के लव में ट्विस्ट”

  1. arvind mishra Says:

    हैप्पी वैलेंटाईन

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।