< Browse > Home / Filmy, Romantic, Situational / Blog article: तुम्हारा इश्क इश्क और हमारा इश्क बच्चा है जी

| Mobile | RSS

तुम्हारा इश्क इश्क और हमारा इश्क बच्चा है जी

January 30th, 2010 | 9 Comments | Posted in Filmy, Romantic, Situational

याद है वो एक पुराना विज्ञापन जो टीवी में आता था जिसमें एक महिला अपने पति को कहती थी, अब तो बड़े बन जाईये। याद है वो टाईम जब आप को कहा जाता था, ये जिद वगैरह छोड़ो अब तुम बच्चे नही हो, बड़े हो गये हो या फिर ये बच्चों जैसी हरकतें छोड़ो और ये सुनते सुनते हम आप कब बड़े हो गये (जाते हैं) पता ही नही चला (चलता)। अब गुलजार साहेब को शुक्रिया ये याद दिलाने के लिये चाहे कितनी परतों में सम्भाल के रख लो दिल तो बच्चा है जी।

मैं बात कर रहा हूँ फिल्म इश्किया की, देखा नाम ही कितना बचकाना है – सीधे सीधे इश्क की जगह पर कहा जा रहा है इश्किया। इस फिल्म में गीत लिखे हैं सदाबहार गुले गुलजार, गुलजार ने। अपने गीतों के लिये गुलजार साहेब जिस तरह से शब्द चुनते हैं फिर उन्हें पिरोते हैं उसका जवाब नही और इसी की एक ताजा मिसाल है – दिल तो बच्चा है जी। यही नही इसी फिल्म के लिये लिखा उनका दूसरा गीत – इब्न-ऐ-बतुता बगल में जूता, पहने तो करता है चुर्रररर भी उन्हीं के हस्ताक्षर बयाँन करता है।

गुलजार के गीत और विशाल भारद्वाज का संगीत मानो इस जमाने में एक दूसरे के पूरक हों। विशाल ने दोनों गीतों में लाजवाब संगीत दिया है। और सोने में सुहागे का काम किया इन दोनों गीतों का गाने वाले गायकों ने। जहाँ इब्न-ऐ-बतुता में सुखविन्दर और मीका ने रंग जमाया है वहीं दिल तो बच्चा है को खुबसूरती और सुफियाना अंदाज दिया है राहत फतेह अली खान की आवाज ने।

गीतों के बोलों पर जरा नजर दौड़ाइये, खासकर जवानी के जाने का और बुड़ापे के आने को बताने का क्या अंदाज है -

ऐसी उलझी नजर उन से हटती नही
दाँत से रेश्मी डोर कटती नही
उम्र कबके बरस के सुफेद हो गयी है
काली बदरी जवानी की छटती नही
वल्लाह ये धड़कन बड़ने लगी है
चेहरे की रंगत उड़ने लगी है
डर लगता है तन्हा सोने में जी
दिल तो बच्चा है जी

बाकि आप खुद सुनकर देख लीजिये मैं ऐंवैं ही नही कह रहा दिल वाकई में बच्चा है जी। अरे हाँ, ये तो कहना रह ही गया तुम्हारा इश्क इश्क और हमारा इश्क ?, फिल्म देखिये पता लग जायेगा ;)

[both songs, infact album is a must for your collection and movie good to have in your film library]

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

Leave a Reply 2,179 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

9 Responses to “तुम्हारा इश्क इश्क और हमारा इश्क बच्चा है जी”

  1. हिमांशु Says:

    निश्चित ही देखेंगे यह फिल्म ! और गीत तो सचमुच लाजवाब हैं ।

    आभार ।

  2. समीर लाल Says:

    अभी तो देखी नहीं..देखेंगे जरुर.

  3. nirmla.kapila Says:

    bashut sundar prastuti dhanyavaad

  4. RA Says:

    Thanks Tarun.
    Vishal Bharadwaj’s music is soothing and Gulzar’s lyrics certainly attract attention.
    Just this morning I read a post on the the other song and the influence of my favorite poet Sarveshwar Dayal Saxena ji.
    http://hamkalaam.blogspot.com/2010/01/ibn-e-batuuta-bagal-men-juutaa.html

  5. RA Says:

    Forgot to mention that the new look of your blog looks very nice.

  6. संजय भास्कर Says:

    bashut sundar prastuti dhanyavaad

  7. संजय भास्कर Says:

    गीत तो लाजवाब हैं

  8. संजय भास्कर Says:

    बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ….माफी चाहता हूँ..

  9. संजय भास्कर Says:

    मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।