< Browse > Home / Rahat Fateh Ali / Blog article: मैं जहाँ रहूँ दिल को राहत देती राहत की आवाज

| Mobile | RSS

मैं जहाँ रहूँ दिल को राहत देती राहत की आवाज

June 10th, 2009 | 5 Comments | Posted in Rahat Fateh Ali

संगीत का जादू किस को मस्त नही कर देता लेकिन जब काम का बोझ ज्यादा हो और थकान उतारने के लिये संगीत सुना जाय तो ये मस्त नही करता बल्कि एक सुकून सा देता है। कम से कम मुझे तो ऐसा ही महसूस होता है, शाम से ही राहत फतेह अली खान को सुन रहा हूँ।

उसी कलेक्शन के एक गीत का आनंद आप भी लीजिये, राहत साहेब ने ये गीत फिल्म नमस्ते लंदन के लिये गाया है -

मैं जहाँ रहूँ, मैं कहीं भी हूँ तेरी याद साथ है।
किसी से कहूँ कि नही कहूँ, ये जो दिल की बात है
कहने को साथ अपने, एक दुनिया चलती है
पर चुपके इस दिल में तन्हाई पलती है
बस याद साथ है……

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

वरिष्ठ रंग-कर्मी हबीब तनवीर के इंतकाल का सुनकर दुख हुआ, साथ में कवि सम्मेलन को जा रहे कवियों के सड़क हादसे के बारे में सुना, ये सब सुनकर आनंद फिल्म की वो लाईने याद आ गयी – हम सब रंगमंच की कठपुतलियाँ हैं जिनकी डोर ऊपर वाले के हाथ में है जहाँपनाह। ये कब किसकी डोर खींच दे कुछ नही पता

हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलितुम जहाँ रहो, तुम कहीं भी रहो, तुम्हारी याद साथ है

Leave a Reply 2,578 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

5 Responses to “मैं जहाँ रहूँ दिल को राहत देती राहत की आवाज”

  1. Manish Kumar Says:

    आज ही ये गीत लोकल एफ एम पर सुना । मेरे घर में सभी को बेहद पसंद है और ये गीत मेरी वार्षिक संगीतमाला २००७ का हिस्सा था। इसे मैं हीमेश जी की बतौर संगीतकार अच्छी compositions में एक मानता हूँ।

  2. PN Subramanian Says:

    एक साथ इतने लोगों को खोना पड़ा है. हमारी श्रद्धांजलि.

  3. maya bhatt Says:

    thanks for this nice song Tarun,hindi me likhna sikhaye pls

  4. Dilip Kawathekar Says:

    ये गीत वाकई में बहुत अच्छा बन पडा है. कॄष्णा नें हमेशा हिमेश के लिये घोस्ट वाईसिंग की है, , तो यहां अच्छा सिला मिला है.

  5. shashi bala Says:

    thanks for this song tarun .yeah song wakai dil ko chu jata hai.dil karta hai bas aankh band karke sunti rahu.it’s very nice song.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।