< Browse > Home / Spiritual (Bhajan) / Blog article: शर्मा बंधुओं को सुनियेः जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को

| Mobile | RSS

शर्मा बंधुओं को सुनियेः जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को

March 30th, 2009 | 11 Comments | Posted in Spiritual (Bhajan)

जब मैं छोटा था तब दूरदर्शन में अक्सर एक भजन बजता (सुनता) हुआ दिखायी देता, भजन की कुछ समझ ना होने के बावजूद भी वो सुनने में बहुत मधुर लगता था। आज अचानक फिर से सुना तो मन को वैसा ही सुकून मिला जैसे तपती दोपहरी में छावँ में खड़े होने पर या पानी की बूँदों को चेहरे पर मारने पर मिलता है।

इस प्रसिद्ध भजन को गाया है शर्मा बंधुओं ने और भजन है -

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरूवर की छाया – २
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम
भटका हुआ मेरा मन था कोई मिल ना रहा था सहारा – २
लहरों से लड़ती हुई नाव को जैसे मिल ना रहा हो किनारा
मिल ना रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो किसी ने किनारा दिखाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरूवर की छाया ……

………

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

[कृप्या साईड बार में दिये गये पोल में भाग लेकर अपनी पसंद बतायें, धन्यवाद।]

Leave a Reply 4,190 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

11 Responses to “शर्मा बंधुओं को सुनियेः जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को”

  1. अनिल कुमार Says:

    बहुत खूब! मजा आ गया!

  2. Arvind Mishra Says:

    सचमुच बहुत आनंदित करने वाला -स्मृति भी तरोताजा !

  3. संगीता पुरी Says:

    मेरा पसंदीदा गाना … बहुत बढिया लगा।

  4. Manish Says:

    Mujhe bhi ye geet behad pasand hai. shukriya iski yaad dilane ke liye.

  5. dhiresh pant Says:

    it is excellent no comments are desired for such versatile composing, the vibrations ,it generates and the tranquility it perculates it self is a comment on the poetic endeavours of the geniuses of those who wrote ,composed and sung it and gretest is the efforts of you who made it available to me let your endeavours continue perinnially and all blessins and peace as all as cited in the song comes to your fold please respond.
    dhiresh pant

  6. maya bhatt Says:

    bahut gati thi ye gana maI!!!!!!!!!!Bahut saalo baad suna,thanks

  7. Usha Kowshik Says:

    Thank you for uploading this beautiful song. It brings tears to my eyes even as I listen to it.

  8. gaurang Says:

    thanks for your comments….

    if you want to contact sharma bandhus then you can contact on sharmabandhu2000@gmail.com

  9. komal Says:

    Hi
    Can u forward me a mp3 version of this one: Suraj ki jalte

  10. malchand soni Says:

    mene sharma bandu aadarney he inki ram katha mene aapne saher bikaner me suni inke mukhar bind se ram katha ka gayan ke tarif kare kam he

  11. Zarina Matcheswala Says:

    I’m so touched & get emotional when listening to it. Guzra
    zamana yaad aa gaya aur woh beetey din ab wapas nahin ayengey.

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।