< Browse > Home / Holi Songs / Blog article: कुछ कमसुने और पुराने होली के गीत

| Mobile | RSS

कुछ कमसुने और पुराने होली के गीत

March 9th, 2009 | 10 Comments | Posted in Holi Songs

फाग, फागुन, चोली, गोरी, राधा, नंदलाल, छैला, रंग, होली जैसे शब्द ही आजकल चारों तरफ फिजां में उमड़ घुमड़ रहे हैं। और इन्हीं शब्दों से भरे कुछ होली के गीतों को हम आप को सुना रहे हैं, ये वो गीत हैं जो सुनने में कम आते हैं। हो सकता है कुछ आपने सुने हों कुछ नही, एक गीत को छोड़कर सभी हिंदी फिल्मों से लिये हैं और वो एक गीत है कुमाउँनी फिल्म बली वेदना से, कुमाउँनी होली के गीतों की तरह ही इस गीत में भी हिन्दी शब्दों की अधिकता है, इसलिये समझने में कोई परेशानी नही होगी। इस गीत के बोल हैं – हरि खेल रहे हैं होली देबा तेरे द्वारे में।

होली के कुल ९ गीत हैं जो एक के बाद एक बजेंगे, आप सबको होली की बधाई बीर और गुला के साथ। मिलकर होली खेलिये क्योंकि यूनाइटेड व्ही प्ले, डिवाइडेड व्ही फाईट

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

Leave a Reply 10,241 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

10 Responses to “कुछ कमसुने और पुराने होली के गीत”

  1. समीर लाल Says:

    वाह!होली के दिन के लिए अच्छा कलेक्शन एक जगह दे दिया.

  2. समीर लाल Says:

    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

  3. mamta Says:

    नायाब गाने है ।
    आपको और आपके परिवार को होली मुबारक ।

  4. ranju Says:

    होली की शुभकामनाएं. गाने यही से सुनते रहेंगे शुक्रिया

  5. संगीता पुरी Says:

    बहुत सुंदर … होली की ढेरो शुभकामनाएं।

  6. nirmla.kapila Says:

    holi ki shubhkaamnaayen geet sun nahi saki shayad avaaj me kuchh gadvad hai

  7. alpana Says:

    bahut hi achcha collection..aur template mein change bhi .

  8. Aman Thakur Says:

    wah what’s a beautyful holy gift&wish

Trackbacks

  1. Nithalla Chintan » होली पर लिखी एक कविता और एक विडियो  
  2.   कुमाँऊनी होली: गीत-संगीत और रंगों का त्‍यौहार by Uttaranchal | उत्तरांचल  

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।