< Browse > Home / Filmy, Romantic / Blog article: सुनिये बालिका वधु का गीत: बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और…

| Mobile | RSS

सुनिये बालिका वधु का गीत: बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और…

March 26th, 2009 | 10 Comments | Posted in Filmy, Romantic

मैं टीवी वाली बालिका बधु नही बल्कि फिल्म वाली की बात कर रहा हूँ। 1976 में तरूण मजुमदार निर्देशित एक बहुत खुबसूरत फिल्म रीलिज हुई थी नाम था बालिका बधु, आजादी की लड़ाई को बैकग्राउंड रख ये बाल विवाह पर बनी एक फिल्म थी। फिल्म में युवा नायक के रूप में थे सचिन और बालिक बधु का किरदार किया था रजनी शर्मा ने। सचिन के व्यस्क किरदार को आवाज दी थी अमिताभ बच्चन ने।

संगीत था आर डी बर्मन का, इसी में पहली बार गीत गाया था किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार ने। सादगी की मधुरता ही इस गीत की, इसके संगीत की और इसके गायन की जान है और ये मधुर गीत है – “बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और“, और? आप खुद ही सुन लीजिये और क्या।

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

[कृप्या साईड बार में दिये गये पोल में भाग लेकर अपनी पसंद बतायें, धन्यवाद।]

Leave a Reply 4,821 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

10 Responses to “सुनिये बालिका वधु का गीत: बड़े अच्छे लगते हैं, ये नदिया ये धरती, ये रैना और…”

  1. अफ़लातून Says:

    गीत बड़ा गुड है ।

  2. राजीव Says:

    तरुण जी, बालिका वधू के इस मीठे गीत की प्रस्तुति के लिये धन्यवाद।
    “ये धरती, ये रैना और.., और?” मुझे तो इसके बाद ही के अंश (शब्द) का प्रस्तुतीकरण गीत में अति सुन्दरता और असरदार ढंग से प्रस्तुत किया गया लगता है!

  3. nirmla.kapila Says:

    sunder geet sunane ke liye dhanyvaad

  4. mahen Says:

    अमित कुमार का यह मेरा इकलौता पसंदीदा गाना है और फिल्म? भाई फिल्म तो लाजवाब थी.

  5. pinki Says:

    nice song……

  6. संगीता पुरी Says:

    बहुत सुंदर गीत है ..;

  7. PN Subramanian Says:

    nissandeh बहुत ही madhut और mohak गीत है. आभार.

  8. संजय पटेल Says:

    पहली बार गीत गाता चल पर आया. और यहाँ ये जाने का मन नहीं हुआ. बहुत परिश्रम से बना है यह ब्लॉग. सुरीलेपन की बढ़ोत्तरी के लिये साधुवाद.

  9. Himanshu Kumar Pant Says:

    Whenever I am alone, I listen this song. If give me some level of support. I don’t know why but I feel this song is related to my life…

    Thanks a lot for reminding me myself.

  10. Himanshu Kumar Pant Says:

    मैं जीतनी बार इस गीत को सुनाता हूँ , उतनी ही बार इसे और सुनने का मन करता है | पर एक बात आज तक समझ मैं नहीं आयी वो यह कि ” और ??? “तुम ” ” में कौन है | बस अब तो इस “तुम ” कि तलाश है |

    हिमांशु कुमार पन्त
    Himanshu Kumar Pant
    ग्राम व पोस्ट ऑफिस पन्तगाँव
    जिला अल्मोड़ा उत्तराखंड
    भारत

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।