< Browse > Home / Geet Paheli (Music Quiz) / Blog article: गीत पहेली क्रमांक – ३

| Mobile | RSS

गीत पहेली क्रमांक – ३

November 3rd, 2008 | 6 Comments | Posted in Geet Paheli (Music Quiz)

आज पेश है पहेली नंबर 3, आज की ये पहेली पहले जितनी आसान नही है। ये गीत पहचानने के लिये हम आपको कुछ हिंट दे रहे हैं – पहला इस गीत के साथ ही हम अपनी पसंद के भजनों की शुरूआत करेंगे यानि कि ये एक भजन की क्लिप है। दूसरा इस भजन को लता और आशा दोनों में से किसी ने नही गाया है, तीसरा ये सूफी टाईप का भजन है।

चलिये अब जल्दी से क्लिप सुनिये और बताईये कौन सा भजन है?

गीत पहेली क्लिप:

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

[हर दस पहेली के बाद सबसे ज्यादा सही उत्तर बताने वाले को ई-मेल से एक MP3 गाना भेजने का प्लान है, टाई होने पर उन सभी को भेजा जायेगा जिनके बीच टाई होगा। मैं समझता हूँ कि जो सबसे पहले सही उत्तर बताये, उसी को स्कोरबोर्ड के लिये क्रेडिट देना चाहिये, आपका क्या कहना है?]

Leave a Reply 1,965 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

6 Responses to “गीत पहेली क्रमांक – ३”

  1. सागर नाहर Says:

    यह गीत वाणी जयराम ने फिल्म मीरा के लिये गाया है, इस गीत के बोल है करना फकीरी फिर क्या दिलगीरी सदा मगन में रहना जी।
    इस फिल्म के संगीतकार पंडित रविशंकर और फिल्म के निर्देशक हैं गुलजार।

  2. सागर नाहर Says:

    वाणी जयराम की आवाज में इसी फिल्म का एक और गीत श्याम मने चाकर राखोजी.. आप गीतों की महफिल में सुन सकते हैं
    श्याम मने चाकर राखोजी: तीन स्वरों में मीरा का एक भजन

    इसी फिल्म के अन्य गीत आप भक्ति संगीत पर भी सुन सकते हैं.. एक बार जरूर सुनें
    मीरा के बजन: भक्ति संगीत

  3. समीर लाल Says:

    अब सागर भाई की बात गीत संगीत के मामले में काटना हमारे बस की बात नहीं. :)

  4. Rewa Smriti Says:

    I am waiting for right result as I am unable to recognise this bhajan. Ye to bahut tough hai ;) Please itna tough bhi mat puchiye warna hame to kabhi MP3 nahi milne wali :(

  5. Tarun Says:

    @सागर भाईसा, ये सभी मैंने सुने हुए हैं, अभी जब २ दिन पहले फिर से सुन रहा था तभी सोच लिया था अगला नंबर इसी का है।

Trackbacks

  1. करना फकीरी फिर क्या दिलगीरी सदा मगन में रहना जी  

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।