< Browse > Home / Happy Go Lucky / Blog article: हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा

| Mobile | RSS

हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा

October 9th, 2008 | 4 Comments | Posted in Happy Go Lucky

मन्ना डे का गाया शायद ही कोई गीत होगा जो मुझे पसंद ना हो, आज उनके गाये एक ऐसे गीत की बात करते और सुनते हैं जो उन्होंने नाना पाटेकर निर्देशित 1991 में रीलिज हुई फिल्म प्रहार के लिये गाया था। मन्ना डे ने इस गीत से भी ज्यादा बेहतरीन गीत गाये हैं लेकिन सबसे पहले इस गीत की बात करने की वजह है इस गीत का मुखड़ा और शायद अंतरा भी।

गीत के बोलों में जहाँ आशावादिता है, वहीं जोश भी है और इस तरह के बोलों के लिये मन्ना दा से बेहतर आवाज शायद ही कोई और हो। इस गीत को लिखा है मंगेश कुलकर्णी ने और संगीत से सजाया है लक्ष्मीकांत प्यारेलाल की जोड़ी ने।

हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा
जब भी खुलेगी चमकेगा तारा
कभी ना ढले जो, वो ही सितारा
दिशा जिस से पहचाने संसार सारा।

हथेली पे रेखाएँ, हैं सब अधूरी
किस ने लिखी हैं, नहीं जानना हैं
सुलझाने उन को न आएगा कोई
समझना हैं उनको ये अपना करम हैं
अपने करम से दिखाना हैं सब को
खुद का पनपना, उभरना हैं खुद को
अंधेरा मिटाए जो नन्हा शरारा
दिशा जिस से …

हमारे पीछे कोई आए ना आए
हमें ही तो पहले पहुँचना वहाँ हैं
जिन पर हैं चलना नई पीढ़ीयों को
उन ही रास्तों को बनाना हमें हैं
जो भी साथ आए उन्हे साथ ले ले
अगर ना कोई साथ दे तो अकेले
सुलगा के खुद को मिटा ले अंधेरा
दिशा जिस से…

हमारी ही मुट्ठी में आकाश सारा
जब भी खुलेगी चमकेगा तारा
कभी ना ढले जो, वो ही सितारा
दिशा जिस से पहचाने संसार सारा।

Hamari Hi Mutthi M…

Leave a Reply 4,701 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

4 Responses to “हमारी ही मुठ्ठी में आकाश सारा”

  1. Pratap Singh Rawat Says:

    I just listened it and loved it very much
    tell u everyone listen it in the morning
    it will give u inspiration …… and full urself with energy

    lots of love

    pratap singh rawat

  2. sajeev Says:

    ये मेरा बहुत पसंदीदा सोंग है शुक्रिया, ऐ स्निप से बेहतर होता यदि आप लाइफ लोग्गेर का लिंक देते इसे बफ़र होने में बहुत समय लगता है

  3. yunus Says:

    हमारा पसंदीदा गीत है ये ।
    प्रहार के सभी (तीनों) गीत अच्‍छे हैं ।

    एक गीत रेडियोवाणी पर चढ़ाया था अपन ने ।

  4. RA Says:

    तरुण ,
    मन्ना डे मेरे प्रिय गायक हैं,उनके गीत सुनकर, सुनवाकर हमेशा आनन्द आता है|
    यहाँ न्यू जर्सी में दो तीन बार उनके कार्यक्रम भी देखे हैं और एक बार तो उनकी धर्मपत्नी से भी भेंट करने का सौभाग्य मिला |

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।