< Browse > Home / Geet Paheli (Music Quiz) / Blog article: गीत पहेली क्रमांक – १

| Mobile | RSS

गीत पहेली क्रमांक – १

October 19th, 2008 | 8 Comments | Posted in Geet Paheli (Music Quiz)

अपनी पसंद के गीतों को सुनाने से पहले अब देंगे थोड़ा सा ट्वीस्ट। आज से शुरू कर रहे हैं गीतों की पहेली यानि हम आपको अपने पसंद के गीतों के संगीत की एक क्लिप सुनायेंगे। ये गीत के शुरू में से या मध्य में से या अंत में से ली हो सकती है। आपको कुछ हिंट भी देंगे, देखना ये है कि कितने लोग गीत को पहचान पाते हैं या उसके आसपास तक पहुँचते हैं।

आज पेश है पहेली नंबर १, चूँकि ये पहली पहेली है इसलिये कुछ ज्यादा हिंटस – ये एक गजल की क्लिप है, गजल की शुरूआत से ली है, पकंज उधास और अनुप जलोटा की गायी हुई नही है। क्या आप बता सकते हैं कौन सी गजल है? एक टिप और दिये देता हूँ, इससे पहचानना बहुत आसान हो जायेगा शायद, ये दो भाईयों की गायी हुई गजल है।

गीत पहेली क्लिप:

Audio clip: Adobe Flash Player (version 9 or above) is required to play this audio clip. Download the latest version here. You also need to have JavaScript enabled in your browser.

Leave a Reply 2,578 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

8 Responses to “गीत पहेली क्रमांक – १”

  1. ताऊ रामपुरिया Says:

    आईडिया बहुत अच्छा लगा ! शायद ये राजन साजन मिश्र हो सकते हैं

  2. समीर लाल Says:

    मन्ने तो यह अहमद हुसैन मोहम्मद हुसैन की शुरुवात दिख्खे है भाई.

  3. शिरीष मौर्य Says:

    समीर जी की बात सही लग रही है तरुण मुझे तो!
    ये काम बढ़िया शुरू कियध है यार !

  4. Ashok Pande Says:

    अभी अभी एक पार्टी से आ रहा हूं. आपका ईमेल देखा तो पहेली देखी.

    दो जवां दिलों का ग़म दूरियां समझती हैं
    कौन याद करता है हिचकियां समझती हैं!

    (अहमद हुसैन – मोहम्मद हुसैन)

    आ जाओ तरूण. मौज काटेंगे लपूझन्ने की इश्टाइल में!

  5. Ashok Pande Says:

    आई मीन ये ग़ज़ल आपकी पहेली का उत्तर थी!

  6. Rewa Smriti Says:

    Iska answer mujhe pata tha….miss kar gayi :-(

Trackbacks

  1. गीत गाता चल में एक नया प्रयोग  
  2. दो जवां दिलों का ग़म दूरियां समझती हैं  

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।