< Browse > Home / Drunkard (sharabi) / Blog article: अभी तो हाथ में जाम है

| Mobile | RSS

अभी तो हाथ में जाम है

October 23rd, 2008 | 6 Comments | Posted in Drunkard (sharabi)

जरा याद करो १९७२ में आयी फिल्म सीता और गीता, फिर याद करो शराब की बोतल हाथ में लिये लड़खड़ाता हुआ धर्मेन्द्र। क्या याद आया? मन्ना डे का गाया हुआ यही गीत ना। मुझे इस फिल्म का ये गीत सबसे ज्यादा पसंद है, इसे बहुत बार सुना है, फिर भी अभी तक मन नही भरा, शराब का नशा तो हो नही सकता ये जरूर संगीत का नशा है जो दूर ही नही होता।

इस गीत के बोल लिखे थे आनंद बक्षी ने और संगीत दिया था राहुल देव बर्मन ने, आवाज है मन्ना डे की।

abhi to haath me jaam hai
tauba kitna kaam hai
abhi to haath me jaam hai
tauba kitna kaam hai
kabhi mili fursat to bhai dekha jaayega
duniya ke baare mein ah socha jaayega
abhi to haath me jaam hai

Jeene se pahle kaun mare
fikr subah ki kaun kare
Jeene se pahle kaun mare
fikr subah ki kaun kare
gham ki raat se kaun dare
abhi suhaani shaam hai
abhi suhaani shaam hai
tauba kitna kaam hai
kabhi mili fursat to bhai dekha jaayega
are duniya ke baare me ah socha jaayega
abhi to haath me jaam hai

thaka hua tha main zara
zara sa sach me ghoont bhara
thaka hua tha main zara
zara sa sach me ghoont bhara
Utha ke bottle ghoont bhara
to ab zara aaram hai
to ab zara aaram hai
tauba kitna kaam hai
kabhi mili fursat to bhai dekha jaayega
are duniya ke baare me ah socha jaayega


Abhi to haath mein…

Leave a Reply 2,756 views |

शायद आप इन्हें भी पढ़ना-सुनना पसंद करें

Follow Discussion

6 Responses to “अभी तो हाथ में जाम है”

  1. कुश Says:

    जी हा बहुत बढ़िया गीत था..

  2. अजित वडनेरकर Says:

    बिल्कुल याद है जी….ऐसा गीत अक्सर जिसके बोल ही याद आते हैं…मन्नादा उसमें से सिरे से गायब रहते है….बाद में याद आता है कि इसे तो मन्नादा ने गाया था…

  3. dr anurag Says:

    अंग्रेजी में धरमेंदर ?तरुण भाई ?

  4. jitendra bhagat Says:

    nice song

  5. suneelrkarmele Says:

    अच्‍छा गीत, दि‍ल को सुकुन देने वाला,
    धन्‍यवाद।

  6. संवेदनाऍं Says:

    अच्‍छा गीत, दि‍ल को सुकुन देने वाला,
    धन्‍यवाद।…

बड़ी देर कर दी, मेहरबाँ आते-आते

टिप्पणियों का शटर कुछ दिनों ही खुला रहता है। असुविधा के लिये हम से भूल हो रही है हमका माफी देयीदो, अच्छा कहो, चाहे बुरा कहो....हमको सब कबूल, हमका माफी देयीदो।